onwin giris
Home उत्तराखंड राजनीति

भाजपा पार्टी ने वर्ष 2017 के विधानसभा चुनाव के नतीजों के आधार पर विधानसभा सीटों की तीन श्रेणियां तय की

चुनावी समर के लिए मैदान में उतर चुकी भाजपा अपनी रणनीति में कहीं कोई कोर-कसर छोड़ने के मूड में नहीं है। इसी के दृष्टिगत पार्टी ने वर्ष 2017 के विधानसभा चुनाव के नतीजों के आधार पर विधानसभा सीटों की तीन श्रेणियां तय की हैं। इनमें जीतने वाली, हारने वाली और कम अंतर से हार वाली सीटें शामिल की गई हैं। इनके लिए इसी हिसाब से रणनीति तैयार की जा रही है।उत्तराखंड में भाजपा वर्ष 2014 के लोकसभा चुनाव से विजय रथ पर सवार है। तब पार्टी ने लोकसभा की पांचों सीटों पर जीत हासिल की थी। इसके बाद वर्ष 2017 के विधानसभा चुनाव में पार्टी ने 70 में से 57 सीटें जीतकर इतिहास रचा। राज्य में यह अब तक किसी भी दल को मिला सबसे बड़ा बहुमत था। साथ ही कुछ सीटें ऐसी भी रहीं, जिनमें भाजपा को काफी कम अंतर से हार मिली। इसके बाद शहरी व ग्रामीण निकाय और सहकारिता के चुनावों में भाजपा ने परचम फहराया। वर्ष 2019 के लोकसभा चुनाव में पार्टी ने राज्य की सभी पांचों सीटों पर कब्जा बरकरार रख फिर इतिहास रचा था। अब पार्टी के सामने अब वर्ष 2022 के विधानसभा चुनाव में ऐसा ही प्रदर्शन दोहराने की चुनौती है। इसी हिसाब से भाजपा ने अपनी रणनीति तय की है। इसी क्रम में आगामी चुनाव के लिए विधानसभा सीटें श्रेणीबद्ध की गई हैं।

भाजपा की राष्ट्रीय कार्यकारिणी की वर्चुअल बैठक में भी इस संबंध में चर्चा हुई। प्रदेश अध्यक्ष मदन कौशिक ने इसकी पुष्टि की। उन्होंने बताया कि कुछ विधानसभा सीटों पर बाहर से भी प्रभारी नियुक्त किए जा सकते हैं, ताकि चुनावी रणनीति में कहीं कोई कमीबेशी न रहे। उन्होंने ऐसी सीटों के नाम बताने से परहेज किया।कौशिक के अनुसार बैठक में उन्होंने संगठन की दृष्टि से विभिन्न जानकारियां केंद्रीय नेतृत्व को दीं। उन्होंने बताया कि राज्य में 11024 बूथों पर समितियां गठित की जा चुकी हैं। प्रदेशभर में अब तक दो विधायकों समेत 250 से ज्यादा दूसरे दलों के कार्यकत्र्ताओं ने पार्टी की सदस्यता ग्रहण की है। विस्तारकों का प्रशिक्षण हो चुका है और सभी विधानसभा क्षेत्रों में प्रवास कर रहे हैं। चुनाव प्रभारी विभिन्न विधानसभा क्षेत्रों में प्रवास कर रहे हैं। राष्ट्रीय महामंत्री संगठन बीएल संतोष कई जिलों में प्रवास कर कोर कमेटियों की बैठकें ले चुके हैं। वह संगठन की मजबूती को निरंतर मार्गदर्शन कर रहे हैं। उन्होंने जन आशीर्वाद रैली, सेवा समर्पण अभियान, प्रधानमंत्री मोदी के 20 के सार्वजनिक जीवन पूर्ण होने पर हुए कार्यक्रम, राष्ट्रीय अध्यक्ष के उत्तराखंड प्रवास, सैन्यधाम की स्थापना समेत अन्य कार्यक्रमों का ब्योरा भी रखा।कौशिक ने बताया कि 10 नवंबर से पार्टी प्रदेश में महासंपर्क अभियान शुरू करने जा रही है, जिसमें एक किट भी दी जाएगी। तब ‘मेरा घर, भाजपा का घर’ नारा दिया जाएगा। इससे पहले राज्य स्थापना दिवस पर नौ नवंबर को पार्टी के सभी 252 मंडलों में कार्यक्रम आयोजित किए जाएंगे।राष्ट्रीय कार्यकारिणी की बैठक में वर्चुअली शामिल होने के बाद प्रदेश भाजपा कार्यालय में ‘नए इरादे, युवा सरकार’ पुस्तिका का विमोचन भी किया गया। प्रदेश भाजपा अध्यक्ष कौशिक ने बताया कि पुस्तिका में प्रदेश सरकार की सभी योजनाओं की जानकारी दी गई है।

 

Similar Posts

© 2015 News Way· All Rights Reserved.