उत्तराखंड कोरोना बुलेटिन राजनीति स्लाइड

उत्तराखंड के पहाड़ी क्षेत्रों में ड्रोन द्वारा पहुंचाई जाएगी कोरोना वैक्सीन, पहले चरण में इनको मिलेगी वैक्सीन, जानें

कोरोना वैक्सीन आने का इन्तजार सब लोग बेसब्री से कर रहे है। वैक्सीन आने से पहले ही  वैक्सीन वितरण करने  में  के लिए सरकार योजनाए बन रही है। जिसके चलते उत्तराखंड में  वैक्सीन को ड्रोन के जरिए दुर्गम पहाड़ी क्षेत्रों तक पहुंचाने का ट्रायल किया जा रहा है। इस प्रैक्टिस का नवंबर में पहला ट्रायल हुआ था, इसमें फिक्स्ड विंग ड्रोन एक आइस बॉक्स में मेडिसिन बॉक्स लेकर देहरादून से मसूरी गया था। इसमें एक घंटे का वक्त लगा था।

ड्रोन से जल्दी पहुंचेगी वैक्सीन 

उत्तराखंड ड्रोन ऐप्लिकेशन ऐंड रिसर्च सेंटर (डीएआरसी) डायरेक्टर अमित सिन्हा ने बताया, ‘यह वैक्सीन डिलिवर करने का प्रभावी और समय की बचत वाला तरीका हो सकता है। दुर्गम स्थानों पर वैक्सीन पहुंचाना हमारा पहला लक्ष्य है।’

पिछले साल ड्रोन से पहुंचाए गए थे ब्लड सैंपल
इससे पहले जून 2019 में एक अनमैन्ड एरियल वीइकल (यूएवी) के जरिए टिहरी के प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र से करीब 36 किमी दूर ब्लड सैंपल भेजे गए थे। सड़क मार्ग को यह रास्ता तय करने में 70 से 100 मिनट का समय लगता है जबकि ड्रोन के जरिए इसे 18 मिनट में पहुंचा दिया गया।

डीजीसीए से इजाजत लेनी होगी

सिन्हा ने बताया कि प्रोसेस शुरू करने से पहले राज्य को डीजीसीए से अनुमति लेनी होगी। उन्हंने बताया, ‘पेलोड भारी होगा इसलिए डीजीसीए से इजाजत लेना जरूरी होगा।’ उत्तराखंड अपने 94,000 हेल्थवर्कर के टीकाकरण की लिस्ट केंद्र को भेज चुका है। इसमें नर्स, डॉक्टर, पैरामेडिकल स्टाफ, मेडिकल स्टूडेंट, आशा वर्कर, एएनएम और दूसरे स्वास्थ्य कर्मचारी शामिल हैं।

Similar Posts

© 2015 News Way· All Rights Reserved.