onwin giris
Home उत्तराखंड राजनीति

शहर के सीमाद्वार व इंदि‍‍रा नगर में डेंगू के मरीज मिलने के बाद नगर निगम ने क्षेत्रों का निरीक्षण फागिंग कराई

शहर के सीमाद्वार व इंदि‍‍रा नगर में डेंगू के मरीज मिलने के बाद नगर निगम व स्वास्थ्य विभाग की संयुक्त टीम ने दोनों क्षेत्रों का निरीक्षण किया व फागिंग कराई। महापौर सुनील उनियाल गामा ने भी क्षेत्र का निरीक्षण किया व नगर निगम को क्षेत्र में सुबह-शाम फागिंग करने के निर्देश दिए। कुछ स्थानों पर डेंगू मच्छर का लार्वा पाया गया, जिसे टीम ने नष्ट कर दिया। आमजन को डेंगू से बचाव के लिए जागरूक भी किया गया।शहर में डेंगू के प्रकोप को देखते हुए नगर निगम की ओर से वृहद पैमाने पर वार्डों में फागिंग की जा रही। महापौर ने बताया कि इसी क्रम में वसंत विहार व इंद्रानगर क्षेत्र में दो बड़ी मशीनों और 20 हैंड स्‍प्रे मशीनों से फागिंग कराई गई। उन्होंने कहा कि शहर के सभी नागरिकों को भी डेंगू के खतरे के प्रति सजगता से कार्य करते हुए हफ्ते में रविवार के दिन अपने घर व आसपास साफ-सफाई के लिए सुनिश्चित करना होगा। अपने घरों में गमले, कूलर, पुराने टायर, टब-बाल्टी में पुराने पानी को एकत्र न होने दें। महापौर ने यह भी कहा कि लोग यह समझें कि डेंगू मच्छर का लार्वा केवल गंदे पानी में पनपता है, यह साफ पानी में भी हो सकता है। ऐसे में हर किसी को सजग रहने की जरूरत है।

आमजन को जागरूक करने के लिए नगर निगम व प्रशासन की ओर से प्रचार-प्रसार करते हुए पंपलेट भी वितरित किए गए और मुनादी भी कराई गई। महापौर ने बताया कि वर्तमान में वसंत विहार क्षेत्र में मिले सभी डेंगू मरीजों की स्थिति ठीक है और कोई भी अस्पताल में भर्ती नहीं है। निरीक्षण के वक्त वरिष्ठ नगर स्वास्थ्य अधिकारी डा. आरके सिंह समेत जिला वैक्टरजनिक रोग नियंत्रण अधिकारी सुभाष जोशी व पार्षद शुभम नेगी आदि मौजूद रहे।दून में डेंगू के मामले लगातार बढ़ रहे हैं। बुधवार को एक और व्यक्ति में डेंगू की पुष्टि हुई है। वहीं जिले में अब तक 15 व्यक्तियों में डेंगू की पुष्टि हो चुकी है। जबकि प्रदेश में अब तक डेंगू के 21 मामले आए हैं। नैनीताल में चार और ऊधमसिंह नगर व हरिद्वार में भी एक-एक व्यक्ति में डेंगू की पुष्टि हुई है।

स्वास्थ्य विभाग के अनुसार, डोईवाला में बुधवार को डेंगू का एक और मरीज मिला। यह व्यक्ति हाल ही में उत्तर प्रदेश से आया है। वह फिलहाल अपने घर में है। उसकी स्थिति खतरे से बाहर बताई गई है। जिला वेक्टर जनित रोग नियंत्रण अधिकारी सुभाष जोशी ने बताया कि अब तक एक लाख 57 हजार 775 घरों का सर्वे किया गया है। जिसमें 8595 घरों में मच्छर का लार्वा पाया गया। नगर निगम और स्वास्थ्य विभाग की टीमें फागिंग व लार्वानाशक दवा का लगातार छिड़काव कर रही हैं। साथ ही जन सामान्य से भी अनुरोध किया जा रहा है कि वह अपने घर में पानी जमा न होने दें। इधर, एकीकृत रोग निगरानी कार्यक्रम के राज्य नोडल अधिकारी डा. पंकज सिंह के अनुसार अभी तक आए मामले गंभीर नहीं हैं। यहां तक कि अधिकांश मरीजों को अस्पताल में भी भर्ती होने की जरूरत नहीं पड़ी है।

Similar Posts

© 2015 News Way· All Rights Reserved.