Home उत्तराखंड

कुंभ में शाही स्नान पर कुंभ में शाही स्नान पर नियंत्रण को पुलिस ने बांस-बल्लियों की घुमावदार बैरिकेटिंग की

कुंभ में शाही स्नान पर भीड़ प्रबंधन के लिए मेला पुलिस ने चक्रव्यूह तैयार किया है। दरअसल, पुलिस ने गंगा घाटों पर भीड़ का दबाव बढ़ने पर व्यवस्था सुचारू रखने के लिए पुलिस ने होल्ड अप एरिया में बांस-बल्लियों की घुमावदार बैरिकेटिंग की है। इसे चक्रव्यूह नाम दिया गया है। भीड़ बढ़ने पर श्रद्धालुओं को इस चक्रव्यूह से गुजारा जाएगा। भीड़ के हिसाब से पुलिस टीम गंगा घाट खाली कराती रहेंगी।कुंभ में भीड़ प्रबंधन मेला पुलिस की प्रमुख चुनौतियों में से एक है। शाही स्नान पवरें पर रिकॉर्ड तोड़ भीड़ गंगा स्नान के लिए पहुंचती है, जिससे भगदड़ का खतरा भी रहता है। इससे निपटने के लिए कुंभ मेला क्षेत्र में खाली मैदानों में होल्ड अप एरिया बनाए गए हैं। हरकी पैड़ी के नजदीक रोड़ीबेलवाला सबसे ज्यादा भीड़ क्षमता वाला मैदान है, इसलिए यहां बनाए गए होल्ड अप एरिया को चक्रव्यूह के रूप में तैयार किया गया है। जिसमें जिग-जैग तरीके से गुजरते हुए श्रद्धालु धीरे-धीरे गंगा घाटों की तरफ बढ़ेंगे। दो दिन पहले कुंभ आइजी संजय गुंज्याल व मेला एसएसपी जन्मजेय प्रभारी खंडूरी ने चक्रव्यूह होल्ड अप को प्रायोगिक तौर पर संचालित कर देखा।

भीड़ के रूप में लगभग एक हजार अर्धसैनिक बल और पुलिस के जवानों को चक्रव्यूह में डाल कर यह देखा गया कि पुलिस बल को घाट खाली कराने में कितना समय मिलेगा। आइजी संजय गुंज्याल ने बताया कि चक्रव्यूह से बाहर निकलने और वापसी के लिए अलग मार्ग बनाकर वहां दिशा दिखाने वाले साइन बोर्ड लगा जाएंगे। चक्रव्यूह में थोड़ी-थोड़ी दूरी पर सामने के घाटों पर स्नान हेतु जाने के लिए रास्ता खुला रखा जाएगा। ताकि जो भी श्रद्धालु चक्रव्यूह से निकल कर नजदीकी घाट पर स्नान कर वापस जाना चाहे तो आसानी से जा सके।बूढ़े, बीमार और अशक्त श्रद्धालुओं को चक्रव्यूह में न डालकर उनके लिए अलग से मार्ग की व्यवस्था की जाएगी। वहीं चक्रव्यूह में पीने के पानी की पर्याप्त व्यवस्था रहेगी। चक्रव्यूह को अच्छे से चलाने के लिए माकूल संख्या में पुलिस बल की ड्यूटी लगेगी। कुंभ मेला एसएसपी जन्मेजय प्रभाकर खंडूरी ने बताया कि आने-जाने के रास्तों को अलग करने के लिए और अन्य आवश्यक जगहों पर बल्ली और बेरिकेड्स लगवाए जा रहे हैं। श्रद्धालुओं को हाईवे के आस-पास के घाटों पर स्नान करने के लिए प्रोत्साहित किया जाएगा, जिससे हरकी पैड़ी और आस-पास के घाटों पर भीड़ का दबाव बढ़ने से बचाया जा सके।

Similar Posts

© 2015 News Way· All Rights Reserved.