रिखणीखाल की स्वाति ध्यानी घटना पर कांग्रेसी बोले, संवेदनहीन हो चुकी है उत्तराखंड सरकार

Facebooktwittermailby feather

पौड़ी जिले में रिखणीखाल ब्लॉक के स्वास्थ्य केंद्र में प्रसव के दौरान स्वाति ध्यानी व उसके नवजात शिशु की मौत पर कांग्रेस मुखर हो गई है। कांग्रेसियों का कहना है कि यह स्वस्थ्य विभाग के अधिकारियों द्वारा लापरवाही है। जिसका खामियाजा जच्चा बच्चे को अपनी जान गंवाकर भुगतना पड़ा। बता दें कि रिखणीखाल के प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र में 28 जून को रात्रि 8 बजे 23 वर्षिय स्वाती ध्यानी को प्रसब पीड़ा के उपरांत भर्ती कराया जाता है 29 जून को 3 बजे वह एक मृत बच्चे को जन्म देती है जिसपर चिकित्सकों द्वारा बच्चे के मृत होने का जिम्मेदार स्वाति को ठहराया और उसे मानसिक पीड़ा पहुचाई प्रसब के बाद जब प्रसूता का रक्तस्राव अधिक हो जाता है और प्रसूता की हालत बिगड़ने लगती है तो परिजनों के आग्रह के बाद भी स्वास्थ्य विभाग के अधिकारियों ने उसे हायर सेंटर रेफर नही किया स्थिति हाथों से निकलते देख आनन फानन में ढाई घंटे बाद उसे हायर सेंटर रेफर किया जिसमें रास्ते मे ही उसकी मौत हो जाती है। इसके बावजूद भी त्रिवेंद्र सरकार को शर्म नहीं है। सरकार संवेदनहीन हो चुकी है।

इस पर अखिल भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस के सदस्य राजपाल बिष्ट ने भाजपा की तीखी आलोचना की है साथ ही अपनी पार्टी के कार्यकाल पर सवाल उठाए हैं। कहा कि राज्य बनने के बीस वर्षों के अंदर भाजपा व कांग्रेस की सरकारें सत्तासीन रही हैं। लेकिन यह कहने में कोई गुरेज नही है कि स्वास्थ्य सेवाओं को सुधारने में सार्थक पहल अब तक नही हो पाई। सत्ता में आने वालों को मूलभूत प्रश्न पर पहल करनी होगी वरना प्रदेश बनने का उद्देश्य ही कही खो जाएगा। युवा कांग्रेस जिलाउपाध्यक्ष आशीष नेगी व प्रदेश सचिव एनएसयूआई मोहित सिंह ने रिखणीखाल की घटना को ह्रदय विदारक बताया। उन्होंने इसके लिए सूबे के सूबे के मुख्यमंत्री को जिम्मेदार ठहराया है जो खुद ही सूबे के स्वास्थ्य मंत्री भी हैं।

डीएम को सौंपे ज्ञापन में इन नेताओं ने पूरे घटनाक्रम की मजिस्ट्रेट जांच की मांग उठाई है। साथ ही जिम्मेदार अधिकारियों पर कार्यवाही की मांग की है। ज्ञापन में युवा कांग्रेस जिला उपाध्यक्ष आशीष नेगी, प्रदेश सचिव एनएस यूआई मोहित सिंह, नगर अध्यक्ष युवा कांग्रेस अंकित सुंदरियाल जिला सचिव युवा दीपक नौटियाल,आकाश रावत ,पवन गौर के हस्ताक्षर हैं