Home उत्तराखंड राजनीति

राज्य विश्वविद्यालयों में एक माह के भीतर रिक्त पदों पर भर्ती प्रक्रिया शुरू होगी; डा धन सिंह रावत

उच्च शिक्षा राज्यमंत्री (स्वतंत्र प्रभार) डा धन सिंह रावत ने बताया कि सभी राज्य विश्वविद्यालयों में एक माह के भीतर रिक्त पदों पर भर्ती प्रक्रिया शुरू होगी। उन्होंने बताया कि रूसा फेज-दो कामयाब रहने के बाद केंद्र सरकार ने राज्य के लिए राष्ट्रीय उच्चतर शिक्षा अभियान (रूसा) फेज-तीन को मंजूरी दी है।विधानसभा स्थित सभा में शुक्रवार को डा धन सिंह रावत ने उच्च शिक्षा विभाग की समीक्षा की। उन्होंने सभी राज्य विश्वविद्यालयों के कुलपतियों को रिक्त शैक्षिक व शिक्षणेत्तर कार्मिकों को भरने के निर्देश दिए। उन्होंने कहा कि ऐसा नहीं करने वाले विश्वविद्यालयों में रिक्त पदों को समाप्त किया जाएगा। उन्होंने कहा कि नई शिक्षा नीति के तहत सीबीसीएस प्रणाली को राज्य विश्वविद्यालयों व महाविद्यालयों में लागू करने को शासन स्तर पर उच्चस्तरीय समिति गठित की गई है। इसमें कुलपति, उच्च शिक्षा निदेशक, उच्च शिक्षा सलाहकार एवं उच्च शिक्षा प्रभारी सचिव शामिल होंगे।समिति सभी पहलुओं पर विचार-विमर्श कर दो हफ्ते में रिपोर्ट सौंपेगी। डा रावत ने बताया कि जल्द प्राचार्यों व नोडल अधिकारियों के साथ बैठक कर रूसा फेज-तीन के कार्यों की रूपरेखा तैयार की जाएगी। बैठक में उच्च शिक्षा सचिव विनोद प्रसाद रतूड़ी, सचिवालय के अधिकारी एवं राज्य विश्वविद्यालयों के कुलपति मौजूद थे।

विभिन्न विभागों में संचालित स्वरोजगार योजनाओं के बेहतर क्रियान्वयन को उपाय सुझाने के लिए गठित प्रकोष्ठ में उद्योग विभाग के निदेशक सुधीर चंद्र नौटियाल को सदस्य नामित किया गया है। अपर मुख्य सचिव मनीषा पंवार ने इस संबंध में आदेश भी जारी कर दिए हैं।पिछले साल कोरोना संक्रमण की दस्तक के बाद प्रवासियों की वापसी और उन्हें रोजगारपरक योजनाओं से जोड़ने के लिए सरकार ने मुख्यमंत्री स्वरोजगार योजना शुरू की थी। विभिन्न विभागों की रोजगारपरक योजनाओं को इसके तहत लाया गया।इन स्वरोजगारपरक योजनाओं के बेहतर क्रियान्वयन के उपाय सुझाने के लिए पिछले साल अगस्त में पलायन आयोग के उपाध्यक्ष एसएस नेगी की अध्यक्षता में तीन सदस्यीय प्रकोष्ठ गठित किया गया। तब प्रकोष्ठ में हार्क संस्था के संस्थापक महेंद्र सिंह कुंवर और तत्कालीन मुख्यमंत्री के आर्थिक सलाहकार आलोक भट्ट को सदस्य बनाया गया। भट्ट के सदस्य पद से हटने के बाद अब शासन ने उनकी जगह उद्योग विभाग के निदेशक नौटियाल को प्रकोष्ठ में सदस्य नामित किया है।

Similar Posts

© 2015 News Way· All Rights Reserved.