राजीव गांधी फाउंडेशन फंडिंग की होगी जांच

Facebooktwittermailby feather

गृह मंत्रालय द्वारा गठित की गई समिति, राजीव गांधी फाउंडेशन के समते तीन ट्रस्ट की फंडिंग की जांच का आदेश.
दरअसल, भारत-चीन सीमा मतभेद के बीच कांग्रेस ने सरकार को घेरना शुरू किया। इस दौरान भाजपा ने कांग्रेस को भी उसके जाल में फंसा लिया। भाजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष जेपी नड्डा ने कांग्रेस सरकार पर आरोप लगाया कि राजीव गांधी फाउंडेशन को चीन से फंडिंग मिलती थी।

इसके अलावा UPAसरकार के समय प्रधानमंत्री राहत कोष का पैसा भी राजीव गांधी फाउंडेशन में जमा किया गया। हालांकि, कांग्रेस ने इन आरोपों को झूठा कह दिया। देश की सबसे पुरानी पार्टी ने खुद पर लगे आरोपों को लेकर कहा कि राजीव गांधी फाउंडेशन देश का फाउंडेशन है और इसका काम सेवा के लिए किया जाता है।

राजीव गांधी फाउंडेशन की फंडिंग को लेकर आरोप लगाए जा रहे थे कि इसे चीन द्वारा फंडिंग मिल रही है। अब, संस्थान पर उठ रहे सवालों के बीच सरकार ने इसकी फंडिंग को लेकर एक अंतर-मंत्रालयी समिति का गठन किया है।

इन आरोपो को देखते हुए गृह मंत्रालय की तरफ से एक समिति का गठन किया गया है, जिसका मुख्य कार्य इस संस्थान की फंडिंग और इसके द्वारा किए गए उल्लंघनों की जांच करना होगा। इस समिति की अगुवाई प्रवर्तन निदेशालय (ईडी) के विशेष निदेशक करेंगे। अंतर-मंत्रालयी टीम की जांच के दायरे में राजीव गांधी चैरिटेबल ट्रस्ट और इंदिरा गांधी मेमोरियल ट्रस्ट द्वारा किया गया कानूनों का उल्लंघन भी होगा।

गृह मंत्रालय के प्रवक्ता ने ट्वीट करके कहा कि, केंद्रीय गृह मंत्रालय ने राजीव गांधी चैरिटेबल ट्रस्ट, इंदिरा गांधी मेमोरियल ट्रस्ट और राजीव गांधी फॉउंडेशन की जांच के लिए अंतर-मंत्रालयी समिति का गठन किया है