onwin giris
Home उत्तराखंड राजनीति

पंजाब की सियासत में जल्‍द ही बड़े सियासी उलटफेर के संंकेत; कई बड़े चेहरे नए राजनीतिक मंच पर आ सकते नजर

पंजाब की सियासत में जल्‍द ही बड़े सियासी उलटफेर के संंकेत हैं और कई बड़े चेहरे नए राजनीतिक मंच पर नजर आ सकते हैं। इसके साथ ही पूर्व मुख्‍यमंत्री कैप्‍टन अमरिंदर सिंह और भारतीय जनता पार्टी (BJP) के बीच गठजोड़ जल्‍द सामने आ सकता है। कांग्रेस छोड़कर पंजाब लोक कांग्रेस पार्टी बना चुके कैप्टन अमरिंदर सिंह दिल्ली जाने की तैयारी में हैं। दिल्ली में उनकी मुलाकात केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह और भाजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष जेपी नड्डा के साथ होगी। जानकारी के अनुसार कैप्टन शुक्रवार को दिल्ली जाएंगे और उनके भाजपा नेताओं के साथ बैठक शनिवार को होगी। इस बैठक के उपरांत भाजपा और कैप्टन की पार्टी के बीच गठबंधन की तस्वीर स्पष्ट होगी। दूसरी ओर, कैप्‍टन ने अपनी पार्टी से कई बड़े चेहरे के जुड़ने के सेकेत दिए हैंं।कैप्टन ने मुख्यमंत्री पद से इस्तीफा देने के बाद 29 सितंबर को अमित शाह से मुलाकात की थी। इस मुलाकात के बाद यह माना जा रहा था कि कैप्टन अमरिंदर सिंह भाजपा में शामिल हो सकते हैं,  लेकिन बाद में उन्‍होंने अपनी पार्टी का गठन कर लिया। पार्टी के गठन के बाद कैप्टन ने भाजपा के साथ गठबंधन करने की इच्छा जाहिर की थी।

सूत्रों का कहना है कि कैप्टन अमरिंदर सिंह और भाजपा के बीच समझौता लगभग हो चुका है बस उचित समय का इंतजार किया जा रहा है। चूंकि केंद्र सरकार की ओर से तीन कृषि सुधार कानूनों को वापस ले लिया गया है, ऐसे में जल्‍द ही इसकी घोषणा होने की संभावना है।  अहम बात यह है कि कैप्टन अमरिंदर की भाजपा के शीर्ष नेताओं के मुलाकात भी उसी दिन होगी जिस दिन पंजाब के 32 किसान संगठन दिल्ली सीमा पर घर वापसी पर फैसला लेने के लिए बैठक कर रहे हैं।उल्लेखनीय है कि संयुक्त किसान मोर्चा ने धरने को लेकर चार दिसंबर को फैसला लेना है। इसी दिन कैप्टन की भाजपा के नेताओं के साथ बैठक होगी। बतौर मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिंदर सिंह ने आंदोलन के दौरान किसान संगठनों की खासी मदद की थी। कई किसान संगठन कैप्टन के काफी करीब भी है।

Similar Posts

© 2015 News Way· All Rights Reserved.