onwin giris
Home उत्तराखंड राजनीति

राष्ट्रीय स्वास्थ्य मिशन की जिला स्तर पर हुई भॢतयों पर उठने लगे सवाल

राष्ट्रीय स्वास्थ्य मिशन (एनएचएम) की जिला स्तर पर हुई भॢतयों पर सवाल उठने लगे हैं। यह भर्ती लेडी मेडिकल अफसर, स्टाफ नर्स, लैब टेक्नीशियन, साइकेट्रिक,सैनिटरी अटेंडेंट समेत विभिन्न पदों पर की गई है, जिसमें कुछ उम्मीदवारों ने धांधली का आरोप लगाया है। एक उम्मीदवार ने सीएम पोर्टल पर भी इस मामले की शिकायत की है। वहीं, अफसर यह दावा कर रहे हैं कि भर्ती में पूरी पारदर्शिता बरती गई है।साइकेट्रिक पद के उम्मीदवार रहे श्रीनगर गढ़वाल निवासी अजय बडोनी ने बताया कि बीते साल दिसंबर में एनएचएम के विभिन्न पदों के लिए विज्ञप्ति निकाली गई थी, जिसमें उन्होंने भी सोशल वर्कर (साइकेट्रिक) के पद पर आवेदन किया। इस पद के लिए शैक्षणिक योग्यता पीजी मांगा गया था। उन्होंने मास्टर इन सोशल वर्क (75 फीसद अंक) और एमफिल इन साइकेट्रिक सोशल वर्क की उपाधि प्रस्तुत की थी।

साक्षात्कार की सूचना किसी अन्य माध्यम से मिली। पता चला कि उन्हें शार्टलिस्ट ही नहीं किया गया है। उन्होंने सीएमओ दफ्तर जाकर जानकारी ली तो बताया गया कि उनका फार्म ही नहीं मिला है।स्पीड पोस्ट की रसीद आदि दिखाने पर कहा गया कि दस लोग शार्टलिस्ट हुए हैं, जबकि उनका 13वां नंबर है। दस लोग किस आधार पर शार्टलिस्ट हुए उन्हें नहीं बताया गया। इस मामले में साक्षात्कार की सूचना भी आवेदकों को व्हटसएप पर दी गई। कोई काल लेटर उन्हें नहीं भेजा गया।किसी वेबसाइट या सूचना पट पर भी ऐसी कोई जानकारी नहीं दी गई। विज्ञप्ति में कम्प्यूटर टेस्ट का उल्लेख नहीं था, पर बाद में इसे जोड़ दिया गया। इसकी शिकायत उन्होंने सीएम पोर्टल पर की है। अपर मुख्य चिकित्साधिकारी (एनएचएम) डा. दिनेश चौहान ने बताया कि इस संबंध में शिकायत मिली है। जिला कार्यक्रम अधिकारी से इस विषय में जानकारी मांगी गई है।

Similar Posts

© 2015 News Way· All Rights Reserved.