सरकार के कार्यों को जनता तक पहुंचाने की जरूरत : मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत

Facebooktwittermailby feather

मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत की अध्यक्षता में सरकार और संगठन की एक समन्वय बैठक मुख्यमंत्री निवास पर आयोजित की गई। बैठक में कोविड -19 के मद्देनजर सरकार द्वारा लिए गए निर्णयों पर विस्तार से चर्चा की गई। मुख्यमंत्री ने कहा कि लोगों को सरकार द्वारा जनहित में लिए गए फैसलों की जानकारी होनी चाहिए। सरकार के साढ़े तीन साल के कार्यकाल में कई अहम फैसले लिए गए हैं। उन फैसलों को सार्वजनिक करना सरकार और संगठन की जिम्मेदारी है।

मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र ने कहा कि लोक कल्याणकारी कार्यक्रमों को समयबद्ध और प्रभावी रणनीति के साथ जनता के लिए सुलभ बनाने की आवश्यकता है। इसमें सभी लोगों का सहयोग लिया जाना चाहिए। यह भी आवश्यक है कि अधिकारियों और विधायकों और संगठन के निचले स्तर से शीर्ष तक के अधिकारियों को सरकार की उपलब्धियों और उनके निर्वाचन क्षेत्रों में किए गए विकास कार्यों के बारे में पता होना चाहिए।

मुख्यमंत्री ने कहा कि कोविड-19 के संक्रमण को रोकने के लिए राज्य सरकार द्वारा प्रभावी पहल की गयी है। इसमें स्वास्थ्य सुविधाओं के विस्तार, प्रवासियों को स्वरोजगार के प्रयास, गरीबों और जरूरतमंदों को मुफ्त राशन, मनरेगा में मजदूरी को बढ़ाने, अटल आयुष्मान का दायरा बढाकर प्रदेश के बाहर के नामी अस्पतालों में भी स्वास्थ्य सुविधा का लाभ दिए जाने, स्वरोजगार के लिए आसान शर्तों पर ऋण उपलब्ध कराने, जिनके पास राशन कार्ड नहीं है ऐसे प्रवासियों के लिए भी सस्ते दर पर खाद्यान्न उपलब्ध कराने सहित अनेक महत्वपूर्ण निर्णय लिए गए हैं।

बैठक ने वर्चुवल कान्फ्रेंस और वर्चुवल मीटिंग के माध्यम से राज्य सरकार द्वारा किए गए विकास और जनहित के कार्यों को जनता के बीच ले जाने का निर्णय लिया, जिसके लिए सांसदों, मंत्रियों और अधिकारियों को जिम्मेदारी दी गई। प्रदेश अध्यक्ष बंशीधर भगत ने भी अपने महत्वपूर्ण सुझाव दिए। बैठक में शहरी विकास मंत्री मदन कौशिक, उच्च शिक्षा राज्य मंत्री डॉ। धन सिंह रावत, मेयर सुनील उनियाल गामा, संगठन महामंत्री अजेय कुमार, महामंत्री राजू भंडारी और कुलदीप कुमार भी मौजूद थे।