onwin giris
Home उत्तराखंड राजनीति

उत्तराखंड के सांसदों की अक्टूबर 2021 के प्रारंभ में 35.34 करोड़ की सांसद निधि खर्च होने को शेष

उत्तराखंड के सांसदों की अक्टूबर 2021 के प्रारंभ में 35.34 करोड़ की सांसद निधि खर्च होने को शेष है। इसमें 19.78 करोड़ की सांसद निधि लोकसभा सांसदों तथा 15.56 करोड़ की सांसद निधि राज्य सभा सांसदों की शामिल है। यह स्थिति तब है जब वर्ष 2020-21 व 2021-22 की सांसद निधि भारत सरकार द्वारा स्थगित की गई है। पूर्व मुख्यमंत्री व पौड़ी सांसद तीरथ सिंह रावत की वर्ष 2019-20 की सांसद निधि में से सितम्बर 2021 तक केवल 18 प्रतिशत धनराशि खर्च हुई है, जबकि नैनीताल सांसद व केंद्रीय मंत्री अजय भट्ट की 59 प्रतिशत धनराशि खर्च नहीं हो सकी है।काशीपुर निवासी सूचना अधिकार कार्यकर्ता नदीम उद्दीन ने उत्तराखंड के ग्राम्य विकास आयुक्त कार्यालय से सांसद निधि खर्च संबंधी सूचना मांगी थी, जिसके जवाब में लोक सूचना अधिकारी/उपायुक्त (प्रशासन) हरगोविन्द भट्ट द्वारा सांसद निधि खर्च के सितंबर 2021 तक विवरण उपलब्ध कराये गये हैं। जिसमें सितंबर 2021 के अंत तक की उत्तराखंड के लोकसभा व राज्यसभा सांसदों के सांसद निधि खर्च का विवरण दिया गया है। नदीम को उपलब्ध सूचना के अनुसार उत्तराखंड के वर्तमान लोकसभा सांसदों को 2019-20 की ही सांसद निधि मिली है।अल्मोड़ा सांसद अजय टम्टा को ब्याज सहित 500.93 लाख की सांसद निधि स्वीकृति के लिए उपलब्ध हुई है। जिसमें से सितंबर 2021 तक 45 प्रतिशत 223.75 लाख की सांसद निधि खर्च हुई है।

हरिद्वार सांसद व पूर्व केन्द्रीय कैबिनेट मंत्री डा. रमेश पोखरियाल को 2019-20 में 260.86 लाख की सांसद निधि उपलब्ध हुई है जिसमें से 52 प्रतिशत धनराशि 135.59 लाख ही खर्च हुई है। इतना ही नहीं इनके पिछले कार्यकाल की पांच प्रतिशत 67.74 लाख की धनराशि भी खर्च होने को शेष है।पौड़ी सांसद व पूर्व मुख्यमंत्री तीरथ सिंह रावत को 2019-20 की 259.31 लाख की सांसद निधि मिली है। जिसमें से केवल 18 प्रतिशत 46.40 लाख की धनराशि ही सितम्बर 2021 तक खर्च हो सकी है। टिहरी सांसद राजलक्ष्मी शाह को 2019-20 में 599.88 लाख की सांसद निधि उपलब्ध हुई है। जिसमें से 64 प्रतिशत 384.66 लाख की धनराशि खर्च हुई है। केन्द्रीय मंत्री व नैनीताल सांसद अजय भट्ट को ब्याज सहित 530.43 लाख की सांसद निधि उपलब्ध हुई है। जिसमें से 41 प्रतिशत 216.25 लाख की सांसद निधि सितम्बर 2021 तक खर्च हो सकी है।उत्तराखंड के राज्य सभा सांसदों में प्रदीप टम्टा को 2016-17 से 2019-20 तक ब्याज सहित 1763.11 लाख की सांसद निधि उपलब्ध हुई है। जिसमें से 83 प्रतिशत 1456.90 लाख की सांसद निधि सितम्बर 2021 तक खर्च हो चुकी है। पूर्व सांसद राजबब्बर को 2015-16 से 2019-20 तक ब्याज सहित 2538.11 लाख की सांसद निधि उपलब्ध हुई है। जिसमें से 81 प्रतिशत 2113.55 लाख की सांसद निधि खर्च हो चुकी है। राज्यसभा सांसद अनिल बलूनी को 2018-19 की ब्याज सहित 513.94 लाख की सांसद निधि स्वीकृति हेतु उपलब्ध हुई है। जिसमें से 24 प्रतिशत 124.79 लाख की धनराशि ही सितम्बर 2021 तक खर्च हो सकी है।

 

Similar Posts

© 2015 News Way· All Rights Reserved.