Home उत्तराखंड बिज़नेस स्लाइड

टीएचडीसी का एनटीपीसी में विलय के संबंध में मदन कौशिक की का दिलाशा

Facebooktwittermailby feather

विधानसभा सत्र के दौरान को विपक्ष की ओर से रखे गए इस मसले का जवाब देते हुए संसदीय कार्यमंत्री मदन कौशिक ने सदन को यह जानकारी दी कि टीएचडीसी का एनटीपीसी में विलय के संबंध में केंद्र से कोई पत्र राज्य सरकार को नहीं मिला है

मदन कौशिक ने यह भी बताया कि जब भी केंद्र सरकार ऐसी कोई योजना बनाऐंगी तो राज्य से विचार विमर्श जरूर करेगी। यदि ऐसा कोई मामला आयेगा तो राज्यहित के विषयों को लेकर सरकार तत्पर रहेगी । जिसमें सहभागिता पुनर्वास कार्मिकों के हित जैसे मामले शामिल होंगे।

सदन की कार्यवाही शुरू होते ही नेता प्रतिपक्ष डॉ इंदिरा हृदयेश ने टीएचडीसी का मुद्दा उठाते हुए नियम 310 ;सभी कामकाज रोककर चर्चा में चर्चा की मांग की। पीठ ने इसे नियम 58 की ग्राह्यता पर सुनने की व्यवस्था दी। बाद में विषय की ग्राह्यता पर डॉ हृदयेश ने कहा कि टीएचडीसी न सिर्फ उत्तराखंड बल्कि राष्ट्रीय धरोहर है।

अब इसे एनटीपीसी को सौंपा जा रहा। इससे राज्यवासियों के साथ ही टीएचडीसी में कार्यरत कार्मिक भयभीत हैं। उन्होंने सवाल उठाया कि आखिर ऐसी क्या मजबूरी है जो लाभ में चल रहे इस संस्थान का विलय किया जा रहा है।

Similar Posts

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

© 2015 News Way· All Rights Reserved.