भारी बारिश से हुआ जीवन अस्त-व्यस्त

Facebooktwittermailby feather

बारिश ने दून में शनिवार रात कई रिकॉर्ड तोड़ दिए। वर्ष 2012 के बाद दून में यह पहला मौका था, जब अगस्त में 24 घंटे के भीतर 150 मिमी से अधिक बारिश हुई। इस दौरान घंटाघर में एक घंटे तक हुई मूसलधार बारिश ने बादल फटने जैसे हालात बना दिए। इससे पहले 2012 में 19 अगस्त को दून में 190 मिमी बारिश हुई थी।

मौसम विभाग ने पहले ही शनिवार को दून में भारी से भारी बारिश की आशंका जताते हुए रेड अलर्ट जारी कर दिया था। मौसम विज्ञान केंद्र के मुताबिक घंटाघर में शनिवार रात 10:30 बजे से 11:30 बजे के बीच 100 मिमी बारिश दर्ज की गई। जोकि बादल फटने के मानक (एक घंटे में 115 मिमी बारिश) से केवल 15 मिमी कम रही। इस दौरान क्षेत्र में हर तरफ तीन से चार फीट तक पानी भर गया। यहां रातभर में करीब 142 मिमी बारिश दर्ज की गई। इससे पहले अगस्त में 10 वर्ष पूर्व घंटाघर में इतनी बारिश दर्ज की गई थी।

हालांकि, शनिवार को सर्वाधिक 172 मिमी बारिश करनपुर और आसपास के क्षेत्र में हुई। इसके बाद सहस्रधारा मार्ग-रायपुर क्षेत्र में रातभर में करीब 150 मिमी बारिश दर्ज की गई। मसूरी में 93 मिलीमीटर तो मोहकमपुर में 109 मिलीमीटर बारिश हुई। वहीं, राजपुर-जाखन क्षेत्र में 118 मिमी बारिश दर्ज की गई।

बता दें कि, मानसून सक्रिय होने के बाद से ही देहरादून समेत पूरे प्रदेश बारिश का क्रम बिगड़ा हुआ है। जिलों में कहीं अतिवृष्टि जैसे हालात हैं तो कहीं बेहद कम बारिश दर्ज की जा रही है। दून में अगले दो से तीन दिन भी भारी बारिश की आशंका है।

सहारनपुर मार्ग स्थित खदरी मोहल्ले में भी नाले के उफान पर आने से जलभराव हो गया। यहां अधिवक्ता सीएस वर्मा, अनिल कुमार, काकू आदि के घरों में नाले का पानी घुसने से फर्नीचर व अन्य सामान खराब हो गया। रविवार को पिछड़ा वर्ग आयोग के पूर्व अध्यक्ष अशोक वर्मा ने क्षेत्रवासियों से दूरभाष पर नुकसान की जानकारी ली। त्यागी रोड निवासी राजेंद्र आनंद ने बताया कि क्षेत्र में रेलवे लाइन के पास आधा दर्जन घरों में पानी भर गया।

मसूरी विधायक गणोश जोशी ने रविवार को प्रेमनगर स्थित मिट्ठी बेहड़ी में बारिश से हुए नुकसान का जायजा लिया। इससे पहले वह जलभराव से प्रभावित विजय कॉलोनी व बदरीनाथ कॉलोनी भी पहुंचे और प्रभावित परिवारों को मदद का भरोसा दिया। विधायक ने बताया कि बारिश से क्षेत्र में कई मकानों व फसलों को नुकसान पहुंचा है। मसूरी मार्ग के संबंध में उन्होंने कहा कि निर्माण कार्य चल रहा है।

बारिश के बीच शहर में कई जगह पेड़ भी टूट गए। सर्वे चौक के पास विकास भवन की चहारदीवारी के भीतर लगा पेड़ टूटकर सड़क पर गिर गया। इससे परेड ग्राउंड और सर्वे चौक के बीच मार्ग अवरुद्ध हो गया। पेड़ टूटने से वहां से गुजर रही विद्युत लाइनें भी क्षतिग्रस्त हो गईं। उधर, सहस्रधारा रोड पर आइटी पार्क के पास भी सड़क किनारे हुए भू-कटाव से एक पेड़ और दुकान धराशायी हो गए।