उत्तराखंड आयुर्वेदिक विवि में नौकरी के नाम पर लाखो की ठगी

Facebooktwittermailby feather

बेरोजगारी के इस दौर में नौकरी के नाम पर युवाओं को निशाना बनाना सबसे आसान हो गया है। उत्तराखंड आयुर्वेदिक विवि में नौकरी के नाम पर एक ने युवाओं से करोड़ों रुपये ठगे। आरोपी का नाम है मृणाल धूलिया। वह पिछले साल से पुलिस की आंखों की धूल झोंक रहा था। लेकिन खबर है कि वह अब पुलिस के हत्थे चढ़ गया।

गौरतलब है कि मृणाल के खिलाफ आयुर्वेदिक फार्मासिस्ट संघ के प्रदेश अध्यक्ष आजाद डिमरी ने जनवरी 2019 में मुकदमा दर्ज कराया था। आरोप था कि उसने कई युवाओं से फार्मासिस्ट के पदों पर नौकरी लगाने के नाम पर करीब 1.54 करोड़ रुपये ठगे। नौकरी नहीं लगी तो कुछ केा उसने 87 लाख रुपये के चेक भी वापस किए। लेकिन सभी चेक बाउंस हो गए।

सिटी एसपी श्वेता चैबे ने बताया कि मुकदमा दर्ज होने के बाद से धूलिया फरार चल रहा था। इस बीच वह हाईकोर्ट से स्टे भी ले आया। लेकिन उसने जांच में कतई सहयोग नहीं किया। पुलिस ने उसके खिलाफ गैर जमानती वारंट और कुर्की आदेश हासिल कर लिए। लेकिन व पुलिस की आंखोे में धूल झोंक ही रहा था। सूचना थी कि वह दिल्ली के किसी फ्लैट में रह रहा है। पुलिस ने दबिश मारी तो वह वहां से भी भाग गया। पुलिस को चकमा देने के लिए वह जम्मू भाग गया। इसकी सूचना पुलिस को हुई। और वहां लौटते पानीपत हाइवे पर पुलिस ने उसे गिरफ्तार कर लिया। न्यायालय में पेशी के बाद उसे 14 दिन की न्यायिक हिरासत में जेल भेजा गया है।