Home लाइफ स्‍टाइल स्लाइड

त्योहार आते ही ये मिलावटखोर और ज्यादा सक्रिय हो जाते हैं; होली की मिठास में रखें सेहत का ख्याल

Share and Enjoy !

हर चमकने वाली चीज सोना नहीं होती और बात अगर खाद्य पदार्थों की हो तो ये बात सौ फीसदी सही साबित होती है। मिलावट करने वाले इतनी सफाई से मिलावट करते हैं कि आम आदमी को इनकी पहचान करना मुश्किल होता है। त्योहार आते ही ये मिलावटखोर और ज्यादा सक्रिय हो जाते हैं। ऐसे में सावधान रहने की जरूरत है क्योंकि खाने की चीजों में मिलावट अस्पताल तक भी पहुंचा सकती है।

दून की ही बात करें तो त्योहार के वक्त यहां प्रतिदिन एक से दो टन मावे की खपत होती है। इसमें से कुछ दून में ही बनता है, तो कुछ की आपूर्ति उत्तर प्रदेश के मुजफ्फरनगर, मेरठ, सहारनपुर व हरिद्वार के भगवानपुर क्षेत्र से होती है। जानकारों का मानना है कि उत्तर प्रदेश से आने वाले मावे में ज्यादातर मिलावट की शिकायतें आती हैं। बावजूद इसके तंत्र की इस मिलावट पर अंकुश लगाने की कवायद रस्म अदायगी से ज्यादा कुछ नहीं करता है। 

जिला अभिहीत अधिकारी जीसी कंडवाल के मुताबिक त्योहार को देखते हुए सघन चेकिंग अभियान चलाया जा रहा है। इसके अलावा शहर की सीमाओं पर भी निगाह रखी जा रही है। विभाग छोटे-छोटे कारोबारियों के साथ ही तमाम बड़े प्रतिष्ठानों से भी मिठाई एवं अन्य खाद्य पदार्थों की सैंपलिंग कर रहा है। इस वक्त खास सर्तकता बरती जा रही है।

Share and Enjoy !

Similar Posts

© 2015 News Way· All Rights Reserved.