onwin giris
Home उत्तराखंड राजनीति

उत्तराखंड के पूर्व मुख्यमंत्री हरीश रावत के साथ लंबी तकरार के बाद कैबिनेट मंत्री डा हरक सिंह रावत ने अब नया पैंतरा चला

उत्तराखंड के पूर्व मुख्यमंत्री और कांग्रेस की प्रदेश चुनाव अभियान समिति के अध्यक्ष हरीश रावत के साथ लंबी तकरार के बाद कैबिनेट मंत्री डा हरक सिंह रावत ने अब नया पैंतरा चला है। उन्होंने रावत के प्रति अपने सुर नरम किए हैं। शुक्रवार को मीडिया से बातचीत में उन्होंने हरीश रावत को बड़ा भाई स्वीकारते हुए कहा कि उनकी हर बात आशीर्वाद है। साथ ही यह भी जोड़ा कि वह कांगेस में वापसी के लिए नहीं, बल्कि बड़े भाई से माफी मांग रहे हैं।पूर्व मुख्यमंत्री हरीश रावत और कैबिनेट मंत्री डा हरक सिंह रावत के बीच लंबे समय से जुबानी जंग चल रही है। हरीश रावत ने पूर्व में वर्ष 2016 के सियासी घटनाक्रम का जिक्र करते हुए तब उनकी सरकार गिराने वालों को पापी और अपराधी तक करार दिया था। इससे आहत कैबिनेट मंत्री हरक सिंह ने दो दिन पहले ही हरीश रावत पर जोरदार निशाना साधा था और यह तक कह दिया था कि तब हरीश रावत उन्हें हर तरह से फंसाना चाहते थे।

उन्होंने रावत पर उनके खिलाफ षड़यंत्र रचने का भी आरोप लगाया था। हरक सिंह रावत भी उन नौ विधायकों में शामिल थे, जिन्होंने वर्ष 2016 में कांग्रेस छोड़कर भाजपा की सदस्यता ग्रहण कर ली थी।अब कैबिनेट मंत्री हरक सिंह रावत ने हरीश रावत के प्रति अपने सुर नरम कर लिए हैं। मीडिया से बातचीत में उन्होंने कहा कि हरीश रावत कुछ भी बोलें, उनके लिए सात खून माफ हैं। हरक ने कहा, ‘हरीश रावत बड़े भाई हैं, उनके खिलाफ कुछ नहीं बोलूंगा। वह चोर बोलें, अपराधी बोलें, मैं उनके चरणों में नतमस्तक हूं। बड़े भाई हैं उनका हर शब्द मेरे लिए आशीर्वाद है।’ यह पूछे जाने पर कि हरीश रावत भी यही चाहते थे कि वे माफी मांगे, इस पर हरक ने कहा कि यह माफी कांग्रेस में वापसी के लिए नहीं है, वह बड़े भाई हैं, इसलिए माफी मांग रहे हैं।हाल में खानपुर विधायक कुंवर प्रणव सिंह चैंपियन द्वारा उन्हें निशाने पर लिए जाने के बारे में पूछने पर कैबिनेट मंत्री रावत ने कहा कि चैंपियन कुछ भी कह दें, उनके लिए भी सात खून माफ हैं। हरक ने आगे कहा, ‘चैपियन मेरा छोटा भाई है। उसके प्रति मेरा प्रेम कभी भी कम नहीं होगा।’

Similar Posts

© 2015 News Way· All Rights Reserved.