Home उत्तराखंड

वन विभाग की ओर से कंट्रोल बर्निंग सवालों के घेरे में ; जाने पूरी खबर

वन विभाग की ओर से गर्मियों में दावानल की घटनाओं के नियंत्रण के लिए की जा रही कंट्रोल बर्निंग सवालों के घेरे में आ गई है। पर्यावरणविदों व पर्यावरण प्रेमियों का आरोप है कि अवैध कटान के निशान मिटाने तथा गर्मियों में आग की घटनाओं की जिम्मेदारी से बचने के लिए अधिकारियों द्वारा यह कुचक्र रचा गया है। उन्होंने उच्चाधिकारियों का दल प्रभावित क्षेत्रों में भेजकर इस मामले के जिम्मेदारों के खिलाफ कार्रवाई की मांग की है। गुरुवार को वन्य जीव  सलाहकार बोर्ड के सदस्य पद्मश्री अनूप साह, प्रो. शेखर पाठक, पूर्व कुलपति प्रो. एसपी सिंह, चिया के अध्यक्ष प्रो. पीपी ध्यानी, राधिका सिंह, विनोद पांडे, डा. जीएस रावत, डा. कृष्ण कुमार, मुनस्यारी के पर्यावरणविद थियोफिसिस ने कुमाऊं की मुख्य वन संरक्षक को जंगलों में कंट्रोल बर्निंग की आग में जले दुर्लभ प्रजातियों के पेड़ों के फोटो व वीडियो संलग्न कर पत्र भेजा है। उन्होंने  कहा कि वन विभाग के कर्मचारी अधिकारियों के मौखिक आदेश पर निजी वनों को भी जला रहे हैं। पदमपुरी के पास पिछले दिनों घने बांज के जंगल में भी आग लगा दी गई, जिससे पेड़ों व झाडिय़ों को नुकसान पहुंचा।

उन्होंने कहा कि हर साल गर्मियों में दावानल की घटनाओं की वजह से प्राकृतिक वनस्पतियों की पैदावार खत्म हो गई है। पुनर्जन्म भी बंद हो गया है। अवांछित खरपतवार फैलते जा रहे हैं। बांज के  अधिकांश जंगलों में चीड़ का अतिक्रमण फैलता जा रहा है। मास, लाइकेन व फर्न जैसी दुर्लभ प्रजातियां नष्टï हो रही हैं। शीतकाल के बाद वनों में पक्षियों व जंतुओं का प्रजनन शुरू होता है, इस बेमौसमी आग से उन्हें भी अपूरणीय क्षति पहुंचती है। उन्होंने आरोप लगाया कि बेमौसमी आग की घटनाएं नैनीताल वन प्रभाग के साथ ही पिथौरागढ़, मुनस्यारी, बागेश्वर, कपकोट, भराड़ी आदि के जंगलों में भी हुई हैं।जंगलों में आग लगाने से उच्चस्थलीय वन्य जीवों का शिकार करना आसान होता है, ऐसे में वन विभाग अवैध शिकार करने वालों की सहायता कर रहा है। उन्होंने कहा कि शीतकाल व बसंत में हिमालय चमकदार व आकर्षक दिखता है मगर इस बेमौसमी आग से हिमालय के दृश्य धुंधले हो गए हैं और पर्यटन अर्थहीन हो गया है। उन्होंने कहा कि वन विभाग के जंगल में नियंत्रित फुकान का काई प्रावधान नहीं है। उन्होंने इन क्षेत्रों में उच्चाधिकारियों का दल भेजने की मांग की है।

Similar Posts

© 2015 News Way· All Rights Reserved.