Home उत्तराखंड देश पर्यटन स्लाइड

पांच साल बाद ट्रेन से कर सकते है गंगोत्री-यमुनोत्री धाम की यात्रा

Facebooktwittermailby feather

गंगोत्री-यमुनोत्री धाम की यात्रा पांच साल बाद ट्रेन के जरिए हो सकती है । रेल लाइन बिछाने के लिए फाइनल सर्वे रिपोर्ट तैयार कर ली है। 121 किलोमीटर लंबी लाइन में 10 रेलवे स्टेशन बनेंगे। पांच साल में बनने वाली रेल लाइन पर 22 हजार करोड़ रुपये खर्च आएगा। गुरुवार को फाइनल रिपोर्ट रेल मंत्रालय एवं उत्तराखंड सरकार को दे दी गई।

रेल विकास निगम को डीपीआर बनाने में दो साल का समय लगा। इसके लिए आईआईटी रुड़की से प्रूफ चेकिंग भी करवाई गई। हिमालयी क्षेत्र की किसी रेल परियोजना के लिए पहली बार विस्तृत भू-वैज्ञानिक सर्वे भी किया गया। रेल विकास निगम के परियोजना प्रबंधक ओमप्रकाश मालगुड़ी ने बताया कि देहरादून के डोईवाला से 121 किलोमीटर लंबी रेल लाइन में 84 किलोमीटर सुरंग के निर्माण के साथ 17 छोटे बड़े पुल बनेंगे। परियोजना में सबसे बड़ी सुरंग 15 किलोमीटर लंबी होगी। उन्होंने बताया कि रेल मंत्रालय से स्वीकृति मिलते ही काम शुरू कर दिया जायेगा।

10 स्टेशन और डेढ़ घंटे का सफर
121 किलोमीटर लंबी लाइन में ट्रेन के 18 डिब्बे मात्र डेढ़ घंटे में उत्तरकाशी पहुंच जाएंगे। भानियावाला, रानीपोखरी, जाजल, मरोडा, कंडीसौंड, सरोट, चन्यिालीसौड, डुंडा, उत्तरकाशी एवं बड़कोट।

Similar Posts

© 2015 News Way· All Rights Reserved.