1xbet 1xbet bahisno1 bahsegel casino siteleri ecopayz güvenilir bahis siteleri canli bahis siteleri iddaa marsbahis marsbahis marsbahis marsbahis marsbahis marsbahis marsbahis marsbahis marsbahis marsbahis marsbahis marsbahis restbet canli skor süperbahis kayit mobilbahis marsbahis marsbahis marsbahis marsbahis
betvakti elexusbet gorabet maksibet maltcasino milosbet quennbet setrabet atlantisbahis artoscasino dumanbet elitbahis fashionbet favoribahis hiltonbet liderbahis oslobet romabet vegabet yorkbet kalebet bet10bet bahislion bahislion bahislion betpark dakikbet dumanbet fenomenbet holiganbet kalebet kolaybet lordbahis olabahis piabet pusulabet süper10bet supertotobet mariobet bahis siteleri güvenilir bahis siteleri kaçak bahis siteleri ligobet polobet verabet
onwin giris
Home उत्तराखंड मेडिकल

उत्तराखंड के बागेश्वर जनपद के मूल निवासी डॉ. दीवान सिंह रावत ने अब तक लाइलाज पार्किंसन बीमारी की औषधि खोज निकाली

पार्किंसन जैसी लाईलाज बीमारी की दवा खोजने वाले उत्तराखंडी श्री दीवान सिंह रावत !
उत्तराखंडी बौद्धिक रूप से अति कुशाग्र है बस आलसी लोगो ने इन्हें होटल में काम करने वालो का प्रदेश बना दिया है ।

नैनीताल में पढ़े व उत्तराखंड के बागेश्वर जनपद के मूल निवासी दिल्ली विश्वविद्यालय के ‘सबसे युवा प्रोफेसर’ के रूप में प्रतिष्ठित डॉ. दीवान सिंह रावत ने अब तक लाइलाज पार्किंसन बीमारी की औषधि खोज निकाली है। उनकी अमेरिकन पेटेंट प्राप्त औषधि को अमेरिका की एक कंपनी बाजार में निकालेगी । इसके लिए डॉ. रावत का अमेरिकी कंपनी से करार हो गया है । औषधि विज्ञान के लिए यह बहुत बड़ी खोज बताई जा रही है। उल्लेखनीय है कि देश के पूर्व दिवंगत प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी और अमेरिका के राष्ट्रपति रोनाल्ड विलसन रीगन भी अपने अंतिम समय में, वर्षों तक इसी पार्किंसन नाम की लाइलाज बीमारी से पीड़ित रहे थे। उम्मीद की जा रही है कि अब जल्द ही दुनिया में लाइलाज पार्किंसन की डॉ. रावत की खोजी हुई औषधि बाजार में आ जाएगी, और भविष्य में वाजपेयी और रीगन सरीखे सभी खास व आम लोगों सहित पूरी मानव सभ्यता को इस जानलेवा व कष्टप्रद बीमारी से मुक्ति मिल पाएगी।

डॉ. रावत ने बताया कि वैज्ञानिक कंपाउंड बनाते रहते हैं, किंतु करीब 10 हजार कंपाउंड बनाने पर एक कंपाउंड ही बाजार में आ पाता है और इस प्रक्रिया में 16 से 18 वर्ष लग जाते हैं, एक दवा बनाने में करीब 450 मिलियन डॉलर का खर्च आता है। ऐसे में अनेकों वैज्ञानिक अपने पूरे सेवा काल में अपनी खोजी दवाओं को बाजार में लाने से पहले ही सेवानिवृत्त हो जाते हैं। लेकिन डॉ. रावत की खोज करीब सात वर्ष में और काफी कम खर्च में ही बाजार में आने जा रही है।

पहाड़ की कठिन परिस्थितियां व्यक्ति को इतना मजबूत कर देती हैं कि यहां के लोग कुछ भी ठान लें तो उसे पूरा करके ही मानते हैं। डॉ. रावत उत्तराखंड के बागेश्वर जनपद के ताकुला से आगे कठपुड़ियाछीना के पास दुर्गम गांव रैखोली के निवासी हैं। किसी भी आम पहाड़ी की तरह उन्होंने गांव में खेतों में हल जोतने से लेकर गोबर डॉलने तक हर कष्ट झेला है। उनकी प्रारंभिक शिक्षा अपने गांव में ही हुई। नौवीं कक्षा के बाद डॉ. रावत नैनीताल आ गए और यहां भारतीय शहीद सैनिक विद्यालय से 10वीं व 12वीं तथा आगे यहीं डीएसबी परिसर से 1993 में टॉप करते हुए एमएससी की डिग्री हासिल की। इसके बाद उन्होंने लखनऊ से प्रो. डीएस भाकुनी के निर्देशन में पीएचडी की डिग्री हासिल की। इसके बावजूद उन्हें दो वर्ष उद्योगों में प्राइवेट नौकरी भी करनी पड़ी। लेकिन उन्होंने हार नहीं मानी और 1999 में अमेरिका चले गए और तीन वर्ष वहां रहकर अध्ययन आगे बढ़ाया। वापस लौटकर 2002 में मोहाली और फिर 2003 में अपनी प्रतिभा से सीधे प्रवेश कर दिल्ली विश्वविद्यालय में पढ़ाने लगे। 2010 में वे दिल्ली विश्वविद्यालय के ‘सबसे युवा प्रोफेसर’ के रूप में भी प्रतिष्ठित हुए।

डॉ. रावत ने बताया कि 1987 में विश्व के सुप्रसिद्ध शोध जर्नल नेचर में एक शोध आलेख प्रकाशित हुआ था, जिसमें मलेरिया की दवाई क्लोरोक्वीन से पार्किंसन का उपचार संभव होने की बात कही गई थी, लेकिन क्योंकि यह बेहद कठिन कार्य था, इसिलए तब से किसी ने भी इस पर आगे कार्य नहीं किया। इधर डॉ. रावत को वर्ष 2012 में एक बड़ा प्रोजेक्ट मिला था, जिसके तहत उन्होंने मलेरिया के उपचार में प्रयुक्त ‘सिंथेटिक मॉलीक्यूल्स’ पर कार्य करना प्रारंभ किया। इस बीच उनका संपर्क अमेरिका के बोस्टन स्थित मैक्लीन हॉस्पिटल के प्रो. किम से संपर्क हुआ, जिनके साथ मिलकर उन्होंने अपने नये खोजे गए सिंथेटिक मॉलीक्यूल्स का प्रो. किम की मदद से जानवरों पर परीक्षण प्रारंभ किया। इस दिशा में सफलता मिलने पर वर्ष 2014 में उन्हें पार्किंसन के उपचार के लिए धनराशि देने वाली अमेरिका की एमजी फॉक्स फाउंडेशन से दो वर्ष के लिए प्रोजेक्ट मिला। इस पर 2014 में ही उन्होंने अपने खोजे सिंथेटिक मॉलीक्यूल्स के लिए प्रो. किम के साथ अमेरिकी पेटेंट हासिल कर लिया। इसके बाद इन सिंथेटिक मॉलीक्यूल्स के पशुओं पर क्लीनिकल परीक्षण प्रारंभ हुए और आखिर पिछले वर्ष यानी 2019 में क्लीनिकल परीक्षण सफल घोषित हुए। इसके बाद इधर एक अमेरिकी कंपनी ने डॉ. रावत के खोजे सिंथेटिक मॉलीक्यूल्स के दवा बनाने के अधिकार डॉ. रावत से खरीद लिए हैं, इसके बाद उम्मीद की जा रही है कि जल्द ही दुनिया में लाइलाज पार्किंसन की डॉ. रावत की खोजी हुई औषधि बाजार में आ जाएगी ।

Similar Posts

© 2015 News Way· All Rights Reserved.