Home उत्तराखंड मेडिकल

जिलाधिकारी देहरादून ने ली मुख्य चिकित्साधिकारी, सभी उपजिलाधिकारी व नोडल अधिकारियों की बैठक; जाने पूरी खबर

Share and Enjoy !

जिलाधिकारी डॉ. आशीष श्रीवास्तव ने मुख्य चिकित्साधिकारी, सभी उपजिलाधिकारी व नोडल अधिकारियों की बैठक लेकर ग्रामीण क्षेत्रों में विशेष ध्यान देने को कहा है। उन्होंने निर्देश दिए कि कोरोना संक्रमण की रोकथाम के लिए गांवों में सैंपलिंग की जाए और इसके लिए अलग-अलग टीम बनाई जाए।

मंगलवार को वीडियो कांफ्रेंसिंग के माध्यम से बैठक को संबोधित करते हुए जिलाधिकारी ने कहा कि जिन गांवों में सैंपलिंग के लिए टीम भेजी जा रही है, वहां ग्राम प्रधानों, आशा और आंगनबाड़ी कार्यकर्त्‍ताओं को आक्सीमीटर, थर्मामीटर व पीपीई किट उपलब्ध कराई जाए। ग्राम प्रधानों के साथ निरंतर संपर्क बनाकर ग्रामीणों को सैंपलिंग के प्रति जागरूक किया जाए। जिससे किसी के भी मन में भ्रम न रहे।

उन्होंने कहा कि अगर कहीं गांवों में धनराशि की जरूरत है तो मुख्यमंत्री राहत कोष के लिए मांग भेजी जाए। जो होम आइसोलेशन किट दी जा रही है, उसमें इस तरह की पठनीय सामग्री भी रखी जाए कि क्या करें और क्या नहीं। इसके अलावा जिलाधिकारी ने निर्देश दिए कि बिना चिकित्सक की सलाह के खांसी-जुकाम की दवा खरीदने वाले व्यक्तियों का नाम-पता संबंधित मेडिकल स्टोर से प्राप्त करें।

जिलाधिकारी ने कहा, प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का निर्देश है कि संकट के इस दौर में कालाबाजारी करने वाले व्यक्तियों को किसी भी दशा में बख्शा न जाए। उन्होंने इस प्रवृत्ति पर अंकुश लगाने के लिए नियमित छापेमारी करने के निर्देश दिए। इसके अलावा जिलाधिकारी ने कोरोना के उपचार में मरीजों से अधिक धनराशि वसूल करने वाले अस्पतालों की पड़ताल करने को भी कहा ताकि उनके खिलाफ नियमानुसार कार्रवाई अमल में लाई जा सके।

जिलाधिकारी ने बताया कि मंगलवार को भी विभिन्न क्षेत्रों में रैंडम आधार पर एंटीजन जांच की गई। चकराता, त्यूणी, विकासनगर, सहसपुर, डोईवाला व तहसील सदर क्षेत्र में 793 व्यक्तियों की जांच की गई। इसमें 65 व्यक्ति संक्रमित पाए गए। त्यूणी क्षेत्र में 179 जांच में 20 व विकासनगर में 150 की जांच में 18 व्यक्ति संक्रमित पाए गए। तहसील सदर में 54 व्यक्तियों की जांच में किसी में भी संक्रमण नहीं पाया गया।

Share and Enjoy !

Similar Posts

© 2015 News Way· All Rights Reserved.