Home उत्तराखंड एजुकेशन स्लाइड

देहरादून हुआ देश के टाॅप 10 प्रदूषित शहर में शामिल

Facebooktwittermailby feather

एक दौर में दून और सुकून के बीच गहरा रिश्ता था। यहां की आबोहवा स्वच्छ होने से इसे रिटायर्ड लोगों का शहर भी कहा जाता। दूर तक जहां भी नजर जाती आम-लीची से लकदक बाग और फसलों से लहलहाते खेत नजर आते थे। फिर वर्ष 2000 में उत्तराखंड पृथक राज्य बना और दून राजधानी। इसके बाद शहरीकरण की अनियंत्रित दौड़ में दून और सुकून के बीच का फासला बढ़ता चला गया। जनसंख्या में 40 फीसद से अधिक का इजाफा हो चुका है और वाहनों की संख्या 300 फीसद से भी अधिक दर से बढ़कर नौ लाख का आंकड़ा छूने जा रही है। इस सबका सर्वाधिक असर यहां की स्वच्छ हवा पर पड़ा, जिसमें रेस्पायरेबल सस्पेंडेड पार्टिकुलेट मैटर (श्वसनीय ठोस निलंबित कण) यानी पीएम-10 व 2.5 की मात्रा मानक से चार गुना तक बढ़ गई है।

पर्यावरण संरक्षण एवं प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड की वेबसाइट पर सबसे पुराने औसत आंकड़े वर्ष 2008 के हैं और तब पीएम-10 की यह स्थिति आज की तुलना में आधी से भी कम (116 माइक्रोग्राम प्रति क्यूबिक मीटर) थी। आज के ताजा आंकड़ों की बात करें तो जनवरी 2019 से अक्टूबर 2019 के बीच पीएम-10 की अधिकतम मात्रा 240 माइक्रोग्राम प्रति क्यूबिक मीटर से भी अधिक पाई गई है, जबकि वार्षिक औसत आधार पर यह मात्रा 60 से अधिक नहीं होनी चाहिए। इसी तरह जिस पीएम-2.5 की मात्रा वार्षिक आधार पर 40 से अधिक नहीं होनी चाहिए, उसके कणों की उपस्थिति हवा में अधिकतम 117 माइक्रोग्राम प्रति क्यूबिक मीटर भी पाई गई है। हवा में घुले प्रदूषण कणों की मात्रा बताती है कि वायु प्रदूषण का ग्राफ किस तेजी से बढ़ रहा है। यदि समय रहते इस पर अंकुश नहीं लगाया गया तो यहां भी दिल्ली से हालात बनते देर नहीं लगेगी। 

Similar Posts

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

© 2015 News Way· All Rights Reserved.