onwin giris
Home उत्तराखंड राजनीति

उत्तराखंड में पिछले 24 घंटे में कोरोना संक्रमण के 20 नए मामले मिले

पिछले 24 घंटे में प्रदेश में कोरोना संक्रमण के 20 नए मामले मिले हैं। जबकि 21 मरीज स्वस्थ हुए हैं। कोरोना संक्रमित किसी मरीज की मौत नहीं हुई है। वहीं संक्रमण दर 0.44 प्रतिशत रही है। स्वास्थ्य विभाग से मिली जानकारी के अनुसार निजी व सरकारी लैब से 4556 सैंपल की जांच रिपोर्ट प्राप्त हुई है।इनमें 4536 सैंपल की रिपोर्ट निगेटिव आई है। हरिद्वार में सबसे अधिक दस लोग कोरोना संक्रमित मिले हैं। देहरादून में चार, पौड़ी गढ़वाल में तीन और टिहरी गढ़वाल, नैनीताल व अल्मोड़ा में एक-एक व्यक्ति संक्रमित मिले हैं। जबकि सात जिलों चमोली, बागेश्वर, चंपावत, पिथौरागढ़, रुद्रप्रयाग, ऊधमसिंह नगर व उत्तरकाशी में कोरोना का कोई नया मामला नहीं मिला है। इधर, विभिन्न जिलों से 5105 सैंपल कोरोना जांच को भेजे गए हैं।

केंद्र सरकार के निर्णय के क्रम में अब प्रदेश सरकार भी कोरोना संक्रमण के दृष्टिगत लगाए गए सभी प्रतिबंध समाप्त करने जा रही है। इसके आदेश शुक्रवार तक जारी होने की संभावना है। हालांकि, दो गज की सुरक्षित दूरी और मास्क लगाने की अनिवार्यता अभी लागू रहेगी।केंद्र सरकार ने सभी राज्यों में 31 मार्च के बाद कोरोना संक्रमण के प्रसार पर रोक लगाने के लिए लागू प्रतिबंध हटाने का निर्णय लिया है। इस कड़ी में केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय ने सभी राज्यों को पत्र लिखकर राज्य में कोरोना संक्रमण के दर की स्थिति के अनुसार कदम उठाने को कहा है।केंद्रीय स्वास्थ्य सचिव राजेश भूषण ने राज्यों को पत्र लिखकर कहा है कि कोरोना की रोकथाम के लिए जारी दिशा-निर्देश लागू रहेंगे। साप्ताहिक संक्रमण दर यदि 10 प्रतिशत से अधिक हो तो अस्पतालों में 40 प्रतिशत बेड बढ़ाए जाएं। ऐसी स्थिति में फिर से प्रतिबंध लागू किए जा सकते हैं। यदि स्थिति नियंत्रण में है तो सारे प्रतिबंध हटाए जा सकते हैं।

देहरादून जिले में 28 मार्च से शुरू होने वाली उत्तराखंड बोर्ड की परीक्षाओं के लिए 122 केंद्र बनाए गए हैं। परीक्षा केंद्र पर कोरोना संक्रमित छात्रों के लिए अलग से बैठने की व्यवस्था की जाएगी। इसके अलावा दिव्यांग परीक्षार्थी की व्यवस्था भूतल एवं सुविधायुक्त स्थान पर की जाएगी। ध्यान देने वाली बात ये है कि परीक्षार्थी को समय से परीक्षा केंद्र पर पहुंचना होगा। परीक्षा प्रारंभ होने के आधा घंटे बाद किसी भी परीक्षार्थी को परीक्षा में सम्मिलित नहीं होने दिया जाएगा।गुरुवार को एडीएम वित्त केके मिश्रा ने गोवर्धन सरस्वती विद्या मंदिर इंटर कालेज सुमननगर में केंद्र व्यवस्थापकों की बैठक ली। बैठक का संचालन करते हुए मुख्य शिक्षा अधिकारी डा. मुकुल कुमार सती ने बताया कि जिले में हाईस्कूल में 14681 (बालक-7219, बालिका-7462) संस्थागत व 91 (बालक-61, बालिका-30) व्यक्तिगत परीक्षार्थी हैं। जबकि इंटर में संस्थागत परीक्षार्थी 11306 (बालक-4995, बालिका-6311 व व्यक्तिगत परीक्षार्थी 140 (बालक-64, बालिका-76) हैं।

परीक्षाओं के सफल संचालन के संबंध में सभी केंद्र व्यवस्थापको को आवश्यक दिशा-निर्देश दिए। उन्होंने कहा कि परीक्षाओं में विद्यालयी शिक्षा परिषद की ओर से जारी सभी निर्देशों को पूरी तरह से पालन किया जाए। ताकि कहीं कोई विवाद या अपारदर्शिता वाला मामला ना सामने आए। परीक्षा भवन का समस्त प्रबंध एवं अनुशासन का दायित्व केंद्र व्यवस्थापक का होगा।कहा कि परीक्षा भवन के गेट में परीक्षा अवधि में ताला न लगाएं। परीक्षा केंद्र पर परीक्षार्थियों के लिए मोबाइल फोन, कैलकुलेटर या अन्य इलेक्ट्रानिक डिवाइस प्रतिबंधित है। ऐसे अध्यापकों को कक्ष-निरीक्षक के दायित्व से मुक्त रखा जाएगा जिनके पाल्य उस परीक्षा केंद्र पर परीक्षा दे रहे हैं। किसी भी दशा में एक कक्ष में एक ही संस्था के दोनों कक्ष निरीक्षक नहीं रखे जाएंगे। वहीं एडीएम ने परिषदीय परीक्षा को प्रभावी ढंग से और नकल विहीन कराए जाने के निर्देश दिए। जिला शिक्षाधिकारी (माध्यमिक) कमलेश कुमार गुप्ता ने प्रस्तुतिकरण के माध्यम से विभिन्न दिशा-निर्देशों से अवगत कराया।

Similar Posts

© 2015 News Way· All Rights Reserved.