Home उत्तराखंड राजनीति स्लाइड

कोरोना वायरस को महामारी घोषित करने और भीड़ वाले कार्यक्रमों पर कानूनी रोक के बीच; प्रमोशन में आरक्षण के खिलाफ हड़ताल बड़ी चुनौती

Facebooktwittermailby feather

कोरोना वायरस को महामारी घोषित करने और भीड़ वाले कार्यक्रमों पर कानूनी रोक के बीच उत्तराखंड जनरल ओबीसी इंप्लाइज एसोसिएशन के प्रदेश अध्यक्ष दीपक जोशी ने एलान किया कि उनका आंदोलन किसी भी कीमत कर नहीं थमेगा।कर्मचारी जरूरी एहतियात बरतते हुए आंदोलन जारी रखेंगे। उनका यह आंदोलन तब तक जारी रहेगा जब तक सरकार उनकी मांगों को पूरा नहीं कर देती। उन्होंने आरोप लगाया कि सरकार कोरोना की आड़ लेकर आंदोलन को विफ ल करने का प्रयास कर सकती है। 

जोशी देहरादून में एक पत्रकार वार्ता को संबोधित कर रहे थे। उन्होंने कहा कि शनिवार को कैबिनेट की बैठक बुलाई गई थी। कर्मचारी यह आशा कर रहे थे कि सरकार प्रमोशन से रोक हटाएगी और कर्मचारियों को काम वापस बुलाएगी। सरकार ने कोरोना वायरस को महामारी घोषित करते हुए कानून बना दिया कि भीड़ भाड़ वाले कार्यक्रमों को प्रतिबंधित किया जाएगा।

उन्होंने आरोप लगाया कि सरकार का यह कदम सीधे सीधे जनरल ओबीसी कर्मचारियों के आंदोलन को प्रभावित करने की मंशा से उठाया गया है। अब पीछे हटने का सवाल पैदा नहीं होता। उन्होंने कहा कि सरकार को जो रोक लगानी हो लगाए, अब हड़ताल तभी रुकेगी जब सरकार प्रमोशन से रोक हटाएगी।पत्रकार वार्ता में एसोसिएशन के प्रदेश महामंत्री वीरेंद्र सिंह गुसांई, पूर्णानंद नौटियाल, अरुण पांडेय, विनोद प्रसाद नौटियाल, मुकेश ध्यानी, प्रताप सिंह पंवार समेत कई अन्य पदाधिकारी उपस्थित रहे।

Similar Posts

© 2015 News Way· All Rights Reserved.