चीन की टेलीकम्युनिकेशन कंपनी पर भारत में लग सकता है प्रतिबन्ध

Facebooktwittermailby feather

भारत मे चीन की टेलीकम्युनिकेशन कंपनी पर प्रतिबन्ध लगाने की बनी योजना, पहले ही 59 चीनी ऐप पर लगा चुका बेन।
भारत मेअब 4जी नेटवर्क से जुड़ी चीन की टेलीकम्युनिकेशन कंपनियों पर रोक लगाए जाने की योजना बनाई जा रही है. वहीं 5जी नेटवर्क के लिए भी चीनी कंपनियों को इजाजत न​हीं देगा। भारत और चीन सीमा के बीच मतभेद बढ़ने के बाद भारत ने 59 चीनी मोबाइल एप्स को पहले ही बैन किया जा चुका है. इनमें से सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म्स पर टिक टॉक और वी चैट भी शामिल हैं.
लद्दाख के गलवान में चीनी और भारतीय सैनिकों के बीच झड़प हुई है जिसके बाद से भारत में चीनी सामान को बैन करने की मांग तेजी से बढ़ती जा रही है. साथ ही साथ चीनी कंपनियां जो पीओके में पाकिस्तान के साथ काम कर रही हैं. उन्हें भी भारत में काम करने की इजाजत न मिले। भारत सरकार ने इस प्रतिबंध को सही बताया और कहा कि ये एप्लीकेशन देश की संप्रभुता, सुरक्षा और अखंडता के लिए खतरा थे.

ORF यानी(ऑब्जर्वर रिसर्च फाउंडेशन) के प्रेसीडेंट गौतम चिकरमने ने 5जी इंफ्रास्ट्रक्चर पर रिसर्च करते हुए बताया कि चीन का कॉरपोरेट ​ऑपरेशंस में दखल बढ़ा ​है. और जिस तरह के क्रिटिकल इंफ्रास्ट्रक्चर के साथ हुवावे डील करता है, चीन की कंपनी अपनी उपस्थिति से किसी देश की सुरक्षा में खतरा पैदा कर सकती है. वहीं भारत के लिए इस तरह का खतरा और बढ़ जाता है.

सुरक्षा एजेंसियों ने भी पीओके में चीनी कंपनियों की उपस्थिति को लेकर चिंता जताई है. और राष्ट्रहित के लिए नुकसान दायक हो सकता है।

You may have missed