चारधाम तीर्थ पुरोहित बोले, जून में नहीं खोली जाए यात्रा

Facebooktwittermailby feather

केदारनाथ तीर्थ पुरोहितों ने कहा है कि जून में यात्रा नहीं खोली जाए। उन्होंने जिलाधिकारी रुद्रप्रयाग वंदना के साथ हुई बैठक में यह सुझाव दिया। केदारनाथ यात्रा को लेकर जिलाधिकारी ने तीर्थपुरोहितों के साथ विस्तार से चर्चा की।

उन्होंने कहा कि अभी सरकार द्वारा यात्रा खोलने का किसी भी तरह से निर्णय नहीं लिया गया है, भविष्य में इस संबंध में जो भी दिशा निर्देश मिलेंगे, तीर्थपुरोहितों को इससे अवगत कराया जाएगा।

कलक्ट्रेट में तीर्थ पुरोहित समाज ने जिलाधिकारी से कहा कि भैरवनाथ मंदिर की पूजा अर्चना के लिए जिला प्रशासन द्वारा सीमित संख्या में 10 जून तक अनुमति प्रदान की जाए, जिससे पुरोहित समाज वहां यज्ञ की तैयारी कर सके।

उन्होंने कहा कि वर्तमान में कोरोना को लेकर आपातकाल जैसी स्थिति चल रही है। ऐसे में जून माह में किसी भी प्रकार से चारधाम यात्रा न खोली जाए। भविष्य में संचालित होने वाली यात्रा के लिए वर्तमान में यात्रा तैयारियों के लिए तीर्थ पुरोहितों को धाम में स्थित भवनों को ठीक करना होगा।

इसलिए प्रशासन को धीरे-धीरे तीर्थपुरोहितों को केदारनाथ जाने की अनुमति दी जानी चाहिए। इस मौके पर जिलाधिकारी ने कहा कि सरकार द्वारा यात्रा को लेकर जो भी दिशा निर्देश दिए जाएंगे उससे तीर्थपुरोहित और यात्रा से जुड़े सभी लोगों को अवगत कराया जाएगा।

इस मौके पर नरेंद्र जमलोकी, केदार सभा के अध्यक्ष विनोद शुक्ला, तीर्थ पुरोहित समाज से मनोज शुक्ला, श्रीनिवास पोस्ती, कुबेरनाथ पोस्ती, प्रवीन शुक्ला, उमेश चंद्र पोस्ती, जीएन वाजपेयी आदि मौजूद थे।

धाम रह रहे लोग भी नहीं यात्रा के पक्ष में
रुद्रप्रयाग। वर्तमान में केदारनाथ धाम में रह रहे लोग भी अभी केदारनाथ यात्रा शुरू कराने के पक्ष में नहीं हैं। यहां मंदिर से जुड़े कर्मचारी, पुजारी और अन्य लोगों का मत है कि कोरोना संकट को देखते हुए बरसात के बाद ही यात्रा शुरू करने को लेकर फैसला लेना चाहिए। फिलहाल जल्दबाजी नहीं की जानी चाहिए।