Home उत्तराखंड राजनीति

मुख्यमंत्री घसियारी योजना और सौभाग्यवती योजना नारी शक्ति के उत्थान की दिशा में ठोस कार्य

Share and Enjoy !

भाजपा प्रदेश अध्यक्ष श्री बंशीधर भगत ने कहा कि मुख्यमंत्री श्री त्रिवेंद्र सिंह रावत द्वारा पेश बजट में पहली बार मुख्यमंत्री घसियारी योजना और सौभाग्यवती योजना बजट का प्रावधान कर सरकार ने नारी शक्ति के उत्थान की दिशा में ठोस कार्य किया है।उन्होंने कहा कि गैरसैण को कमिश्नरी बनाने से जहां विकास कार्यों को गति मिलेगी वहीं पर्वतीय क्षेत्र में अनेक विकास परक गतिविधियाँ भी संचालित होगी।

भाजपा प्रदेश अध्यक्ष श्री भगत ने कहा कि भाजपा ने राज्य दिया और राजधानी दी तो साथ ही राज्य को संवारने का कार्य भी कर रही हैं। उन्होंने कहा कि भाजपा सरकार ने जन भावनाओं के अनुरूप गैरसैंण को ग्रीष्मकालीन राजधानी घोषित किया और वहां पर आधारभूत ढांचे के विकास के लिए कई कदम उठाए हैं। इस दिशा में एक महत्वपूर्ण पहल गैरसैंण को अलग कमिश्नरी का दर्जा देना भी है।

उन्होंने कहा कि मुख्यमंत्री श्री त्रिवेंन्द्र सिंह रावत द्वारा प्रस्तुत बजट में आम आदमी का ध्यान रखा गया है और इस लिहाज से इसे आम आदमी का बजट कहा जा सकता है। यह बजट आम आदमी , महिला , किसान , मध्यम वर्ग सहित सबके हित में है। बजट में ग्रामीण अर्थ व्यस्था के लिए रोजगार गारंटी योजना, पलायन रोकने, महिला सुरक्षा व क़ृषि तथा युवाओ के रोजगार की योजनाओं पर फोकस किया गया है। उन्होंने कहा कि निश्चित रूप से बजट राज्य के विकास में मील का पत्थर साबित होगा।

भाजपा प्रदेश अध्यक्ष श्री भगत ने त्रिवेंन्द्र सरकार द्वारा प्रस्तुत बजट को सराहते हुए कहा कि प्रस्तुत बजट से निश्चित रूप से प्रदेश के गाँव से लेकर शहर व मैदान से लेकर पहाड़ सभी क्षेत्रों का संतुलित विकास होगा। उन्होंने कहा कि आगामी वित्त वर्ष में सड़क निर्माण के लिए पीडब्ल्यूडी को 1511 करोड़ रुपए का प्रावधान। इसके तहत 843 किमी सड़कों का निर्माण, 743 किमी सड़कों का पुनर्निर्माण तथा 43 पुलों का निर्माण शामिल है। सड़कों के रखरखाव व सुधारीकरण के लिए भी 385.87 करोड़ का प्रावधान किया गया है।

श्री भगत ने प्रस्तुत बजट के विभाग वार उल्लेख करते हुए कहा कि उद्योग विभाग के तहत विभिन्न कार्यक्रमों के तहत ऋण, सब्सिडी ग्रोथ सेंटर स्थापना आदि के लिए 132.60 करोड़ का प्रावधान स्मार्ट सिटी से संबंधित कार्यों के लिए 695 करोड़ का प्रावधान त्रिस्तरीय पंचायतों के लिए 425 करोड़ का प्रावधान, ग्राम स्वराज अभियान के लिए 49.86 करोड़ का प्रावधान मुख्यमंत्री पलायन रोकथाम योजना के तहत स्वरोजगार के अवसर देने व कौशल विकास के लिए 18 करोड़ का प्रावधान
मनरेगा के लिए 272.45 करोड़ का प्रावधान स्वच्छ भारत मिशन ( ग्रामीण ) के तहत वेस्ट मैनेजमेंट व सीवरेज ट्रीटमेंट के लिए 101 करोड़ का प्रावधान जल जीवन मिशन तथा पेयजल से संबंधित योजनाओं के लिए 667 करोड़ का प्रावधान जामरानी बांध परियोजना के लिए 240 करोड़ रुपए का बजटीय प्रावधान मुख्यमंत्री घस्यारी कल्याण योजना के लिए 25 करोड़ का प्रावधान किसानों एवं किसान समूहों को 47 करोड़ रुपए का ब्याजमुक्त ऋण वितरित किया गया प्रधानमंत्री मत्स्य संपदा योजना के तहत राज्य में फिश आउटलेट्स के लिए 17.33 करोड़ का प्रावधान किया गया है। कृषि तथा संबंधित क्षेत्र में प्राथमिकता से सुधार किए गए हैं । इसमें राष्ट्रीय कृषि विकास योजना के लिए 67.94 करोड़ का प्रावधान
राज्य कृषि विकास योजना के लिए 20 करोड़ का प्रावधान एकीकृत आदर्श कृषि योजना के लिए 12 करोड़ का प्रावधान गन्ना किसानों का समय पर भुगतान करने के लिए 245 करोड़ रुपए का प्रावधान बजट में किया गया।

श्री भगत ने कहा 15वें वित्त आयोग में केंद्र से भरपूर मदद मिली। करीब 89 हजार करोड़ की रकम अगले 5 साल में मिलेगी इससे साबित हो रहा है कि डबल इंजन की सरकार के कार्यों का असर प्रदेश दिखने लगा है।

Share and Enjoy !

Similar Posts

© 2015 News Way· All Rights Reserved.