Home उत्तराखंड

हरिद्वार स्थित पंतजलि योगपीठ के प्रकल्पों में योगाचार्यों के संक्रमित होने की खबरों को बाबा रामदेव ने खारिज किया

 हरिद्वार स्थित पंतजलि योगपीठ के प्रकल्पों में कर्मचारियों और योगाचार्यों के संक्रमित होने की खबरों को योग गुरु बाबा रामदेव ने खारिज किया है। उन्होंने दावा किया कि पतंजलि में कोई संक्रमित नहीं है। उन्होंने कहा कि स्वास्थ्य विभाग के अनुसार यहां 70 और इंटरनेट मीडिया में 83 की संख्या दी जा रही है। दोनों ही निराधार हैं। दूसरी ओर मुख्य स्वास्थ्य अधिकारी (सीएमओ) डॉ. एसके झा ने कहा कि पतंजलि में अब 70 लोग कोरोना से संक्रमित हैं। पतंजलि फेस दो को कंटेनमेंट जोन बनाया गया है। योगगुरु बाबा रामदेव और पतंजलि के प्रवक्ता एसके तिजारेवाला ने साफ किया कि इंटरनेट मीडिया पर पतंजलि के विभिन्न प्रकल्पों के कर्मचारी, योगाचार्य आदि के कोरोना संक्रमित होने की खबर पूरी तरह गलत है। पतंजलि, योगग्राम और आचार्यकुलम में कोई भी कोरोना संक्रमित नहीं है। बताया कि आचार्यकुलम में हर साल 200 से 250 की संख्या में विद्यार्थी प्रवेश को आते हैं।

इसके अलावा पतंजलि योगपीठ में हर रोज औसतन 50 और योगग्राम में 50 से 100 की संख्या में मरीज इलाज को पहुंचते हैं। सभी के लिए कोराना जांच अनिवार्य किया गया है। आचार्यकुलम में प्रवेश लेने आए विद्यार्थियों के लिए भी कोविड जांच अनिवार्य की गई है। निगेटिव रिपोर्ट वालों को ही प्रवेश दिया रहा है। कुछ की रिपोर्ट पॉजिटिव आने पर उन्हें वापस भेज दिया गया।अखाड़ों में अब तक कोरोना के 168 मामले सामने आ चुके हैं। हर रोज औसतन आठ से दस मामले सामने आ रहे हैं। जूना, निरंजनी और श्री शंभू पंचायती अटल अखाड़े में ज्यादा मामले हैं। मुख्य शाही स्नान के बाद सैंपङ्क्षलग में तेजी के साथ अखाड़ों में कोराना के मामले बढ़े हैं। 11 से 22 अप्रैल तक अखाड़ों में 100 से ज्यादा मामले सामने आए। इससे पहले भी अखाड़ों में कोरोना के मामले आते रहे।

भारतीय प्रौद्योगिकी संस्थान (आइआइटी) रुड़की में अब तक कुल 315 छात्र-छात्राएं कोरोना पॉजिटिव आ चुके हैं। वहीं, राष्ट्रीय जलविज्ञान संस्थान रुड़की में अब तक 31 व्यक्तियों की रिपोर्ट कोरोना पॉजिटिव आई है। कोरोना संक्रमितों में वैज्ञानिक, स्टॉफ और उनके स्वजन शामिल हैं। गुरुवार को संस्थान के एक वैज्ञानिक की कोरोना से मौत भी हुई थी। वहीं, बीएचईएल क्षेत्र में पिछले दो सप्ताह में क्षेत्र में करीब 200 मामले सामने आ चुके हैं। इस अवधि में सर्वाधिक 38 मामले 20 अप्रैल को सामने आए। हालांकि इसके एक रोज बाद 37 पॉजिटिव केस पंजीकृत हुए।

Similar Posts

© 2015 News Way· All Rights Reserved.