onwin giris
Home उत्तराखंड राजनीति

दूसरी लहर में देश भर में सामने आई आक्सीजन की किल्लत के बाद केंद्र सरकार ने देश में चिकित्सा आक्सीजन की उपलब्धता का फैसला लिया

कोरोना महामारी की दूसरी लहर में देश भर में सामने आई आक्सीजन की किल्लत के बाद केंद्र सरकार ने देश में चिकित्सा आक्सीजन की उपलब्धता को बढ़ाने का फैसला लिया था। इसके लिए प्रधानमंत्री नागरिक सहायता और राहत कोष (पीएम केयर्स) से देश के विभिन्न स्वास्थ्य केंद्रों में 1226 प्रेशर स्विंग एडजार्प्‍शन (पीएसए) चिकित्सीय आक्सीजन उत्पादन संयंत्रों की स्थापना करने का लक्ष्य रखा गया। पीएम केयर्स फंड से वित्त पोषित 1100 से अधिक पीएसए आक्सीजन प्लांट भारत के 35 राज्यों व केंद्र शासित प्रदेशों में स्थापित किए गए हैं। जिनमें से आज प्रधानमंत्री 35 पीएसए आक्सीजन प्लांट देश को समर्पित करेंगे।

केंद्र सरकार ने देशभर में 1226 पीएसए आक्सीजन प्लांट तैयार करने की जिम्मेदारी रक्षा अनुसंधान एवं विकास संगठन (डीआरडीओ) को सौंपी थी। डीआरडीओ ने स्वदेशी फाइटर जेट, एलसीए तेजस में प्रयुक्त आक्सीजन तकनीक का उपयोग करते हुए पीएसए आक्सीजन संयंत्र को महज दो माह में विकसित कर दिया। यह प्लांट में वातावरण में मौजूद आक्सीजन को अवशोषित कर उसे चिकित्सा आक्सीजन में परिवर्तित करता है। इस तकनीक पर आधारित आक्सीजन प्लांट सबसे पहले लेह और उत्तर-पूर्व के राज्यों में लगाए थे। डीआरडीओ ने देश में आक्सीजन संयंत्रों की स्थापना के लिए टाटा कंपनी, कोयम्बटूर की ट्राईटेंड न्यूमैटिक प्राइवेट लिमिटेड, इंडियन इंस्टीट्यूट आफ पेट्रोलियम (आइआइपी) को यह तकनीक सौंपी है। केंद्रीय स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण मंत्री मनसुख मंडाविया ने ट्वि‍ट कर जानकारी दी कि 1224 पीएसए आक्सीजन संयंत्रों को पीएम केयर्स के तहत वित्त पोषित किया गया है, जिनमें से 1100 से अधिक संयंत्रों को चालू किया गया है, जिससे प्रतिदिन 1750 मीट्रिक टन से अधिक आक्सीजन का उत्पादन होता है। ऋषिकेश एम्स में स्थापित पीएसए आक्सीजन प्लांट को टाटा सिस्टम ने तैयार किया है।

एम्स ऋषिकेश स्थापित किए गए पीएसए आक्सीजन प्लांट की क्षमता प्रति मिनट एक हजार लीटर आक्सीजन का उत्पादन की है। इस प्लांट से एक समय पर 190 सामान्य मरीजों को पांच लीटर प्रति मिनट तथा 64 वेंटीलेटर को 15 लीटर प्रति मिनट आक्सीजन की आपूर्ति की जा सकती है। वहीं इस प्लांट में 195 आक्सीजन सिलिंडर को रीफिल किया जा सकता है। अब तक एम्स ऋषिकेश में लिक्विड आक्सीजन स्टोरेज प्लांट से चिकित्सा आक्सीजन की आपूर्ति की जाती थी। जिसकी आक्सीजन स्टोरेज क्षमता 30 हजार लीटर है। जबकि नए पीएसए आक्सीजन प्लांट से एक दिन (चौबीस घंटे) में 24 हजार लीटर आक्सीजन का उत्पादन होगा। इस तरह अब एम्स की आक्सीजन क्षमता 54 हजार लीटर हो गई है, जो लगभग दोगुनी क्षमता है।

Similar Posts

© 2015 News Way· All Rights Reserved.