onwin giris
Home उत्तराखंड राजनीति

सगंध पौध केंद्र सेलाकुई की ओर से हिमालयन माइनर इंशेसियल आयल कान्क्लेव एवं एरोमा पार्क प्रोजेक्ट शुरू

सगंध पौध केंद्र प्रदेश के किसानों की मेहनत को महकाने का काम करेगा। सगंध पौधों की खेती से आर्थिकी मजबूत करने के साथ ही परफ्यूम व्यवसाय में प्रदेश की भूमिका बढ़ाने के प्रयास किए जा रहे हैं। इसके लिए हिमालयन माइनर इंशेसियल आयल कान्क्लेव एवं एरोमा पार्क प्रोजेक्ट शुरू किया गया है। किसानों से सगंध पौध उत्पादों को खरीदकर उनका तेल निकाला जाएगा, जिसे परफ्यूम उद्योगों को बेचा जाएगा।सगंध पौध केंद्र सेलाकुई की ओर से नंदा की चौकी स्थित एक होटल में हिमालयन माइनर इंशेसियल आयल कान्क्लेव और एरोमा पार्क प्रोजेक्ट का रविवार को उद्घाटन समारोह आयोजित किया गया। इससे पहले सगंध तेलों व फ्रेगरेंस से जुड़े उद्योगपतियों ने काशीपुर में बन रहे एरोमा पार्क का भ्रमण भी किया। उद्घाटन समारोह में मुख्य अतिथि कृषि मंत्री सुबोध उनियाल ने कहा कि जहां जंगली जानवरों व पानी की समस्या के चलते कृषकों को हानि हो रही है, वहीं सगंध पौधों की खेती किसानों को फायदेमंद साबित हो सकती है।

सगंध पौधों की खेती से कृषक लगातार जुड़ रहे हैं। साथ ही ऐरो मेटिक सेक्टर को बढ़ावा देने के लिए सरकार की ओर से हर संभव प्रयास किए जा रहे हैं। छोटा राज्य होने के बावजूद उत्तराखंड उद्योगों का केंद्र बन रहा है। सगंध पौध केंद्र के निदेशक डा. नृपेंद्र चौहान ने उद्यमियों, कृषकों व प्रतिभागियों को हिमालयन माइनर इंशेसियल आयल्स के बारे में जानकारी दी। एरोमा उद्योग से जुड़े उद्योगपतियों को इन तेलों को अपने परफ्यूम उत्पादों में प्रयोग करने का आह्वान किया।इस अवसर पर इंशेसियल आयल एसोसिएशन आफ इंडिया के अध्यक्ष योगेश दुबे ने आशा व्यक्त की है कि सिडकुल, काशीपुर में एरोमा पार्क की स्थापना से उत्तराखंड के सुगंधों की पहचान अंतरराष्ट्रीय स्तर पर स्थापित होगी। इस दौरान उद्योग मंत्री गणेश जोशी, कृषि सचिव डा. आर मीनाक्षी सुंदरम ने कालाबासा जिजरग्रास एवं तेजपात जैसे हिमालयन माइनर तेलों का बड़ी मात्रा में आसवन करने वाले कृषकों को प्रशस्ति पत्र देकर सम्मानित किया।

Similar Posts

© 2015 News Way· All Rights Reserved.