केदारनाथ में अन्नकूट मेले का शुभारंभ

Facebooktwittermailby feather

श्री केदार भूमि में अन्नकूट मेले की तैयारियां जोर-शोर से चल रही है| कोरोना महामारी के चलते श्रद्धालुओं की भीड़ पर रोक है किंतु पुजारियों के बीच उत्साह की लहर है|
गोधूलि बेला में भगवान शंकर के लिंग पर स्थानीय अनाज, झंगोरे इत्यादि का लेप किया जाएगा| रात्रि के समय भगवान शिव के स्वयंभू शिवलिंग को चावल से पूरी तरह ढक दिया जाएगा| प्रातकाल 4:00 बजे मुख्य पुजारी शिवलिंग का श्रृंगार, आरती कर अन्नकूट के मेले का समापन करेंगे|इसके पश्चात अनाज के लेप को शिवलिंग से निकालकर मंदाकिनी नदी में प्रवाहित करने की परंपरा है|

मान्यता है कि अनाज का लेपन करने से भगवान नये अनाज मैं मौजूद विषाक्त पदार्थों को नष्ट कर देते हैं| इस अनूठी स्थानीय पौराणिक परंपरा में न केवल विश्व कल्याण की भावना छुपी है बल्कि यह समर्पण का भी एक अच्छा उदाहरण है| नर और नारायण के बीच आत्म समर्पण की डोर को मजबूत करने वाली ऐसी स्थानीय परंपराओं के लिए आज वोकल होने की आवश्यकता है|