Home उत्तराखंड

अखाड़े कुंभ को भव्यता ही नहीं, संपूर्णता भी प्रदान करते हैं.

Share and Enjoy !

कुंभ और अखाड़े एक-दूसरे के पर्याय हैं। अखाड़े कुंभ को भव्यता ही नहीं, संपूर्णता भी प्रदान करते हैं। कुंभ का होना भले ही खगोलीय गणना पर निर्भर हो, लेकिन व्यवहार में कुंभ की शुरुआत कुंभनगर में अखाड़ों के प्रवेश के साथ ही होती है। कुछ वर्ष पूर्व तक शैव, वैष्णव और उदासीन पंथ के 13 अखाड़ों को ही मान्यता मिली हुई थी। लेकिन, वर्ष 2019 के प्रयागराज अर्द्धकुंभ से किन्नर अखाड़ा भी कुंभ का हिस्सा बन गया। हरिद्वार कुंभ में इस अखाड़े ने न सिर्फ श्री पंचदशनाम जूना अखाड़ा के साथ पेशवाई निकाली, बल्कि महाशिवरात्रि पर्व पर शाही अंदाज में गंगा स्नान भी किया।

अखाड़ा, कुश्ती से जुड़ा हुआ शब्द है, लेकिन जहां भी दांव-पेंच की गुंजाइश होती है, वहां अमूमन इस शब्द को इस्तेमाल में लाया जाता है। पूर्व काल में आश्रमों के अखाड़ों को बेड़ा (साधुओं का समूह) कहा जाता था। तब अखाड़ा शब्द का चलन नहीं था। साधुओं के जत्थे में पीर होते थे। अखाड़ा शब्द मुगलकाल से चलन में आया। हालांकि, कुछ विद्वान अलख शब्द से अखाड़ा शब्द की उत्पत्ति मानते हैं। ऐसा भी माना जाता है कि साधुओं के अक्खड़ स्वभाव के चलते ही उनके समूह को अखाड़ा नाम दिया गया होगा। लेकिन, सर्वप्रचलित मान्यता के अनुसार अखाड़ों की स्थापना का क्रम सनातनी संस्कृति के उन्नयन के लिए आदि शंकराचार्य ने शुरू किया था।

मूलत: अखाड़े साधु-संन्यासियों का वह दल हैं, जो शस्त्र विद्या में निपुण होते हैं। अखाड़ों से जुड़े साधु-संतों के मुताबिक जो शास्त्र से नहीं मानते, उन्हें शस्त्र से मनाने के लिए अखाड़ों का जन्म हुआ। व्याकरणाचार्य स्वामी दिव्येश्वरानंद कहते हैं कि एक हाथ में माला और एक हाथ में भाला वाले सिद्धांत पर अखाड़ों को शास्त्र और शस्त्र, दोनों की शिक्षा दी गई। व्यवस्था बनाई गई कि शंकराचार्य या उनके द्वारा नामित आचार्य सनातनी संस्कृति की रक्षा के लिए जब कभी इन अखाड़ों को शस्त्र उठाने का आदेश देंगे, यह अपना काम करेंगे। आजादी के आंदोलन में भी इन अखाड़ों ने अहम भूमिका निभाई। लेकिन, आजादी के बाद उन्होंने अपना सैन्य चरित्र त्याग दिया। वर्तमान में भारतीय संस्कृति एवं दर्शन के सनातनी मूल्यों का अध्ययन और अनुपालन करते हुए संयमित जीवन व्यतीत करना अखाड़ों का मुख्य ध्येय बन गया है।

Share and Enjoy !

Similar Posts

© 2015 News Way· All Rights Reserved.