आईआईटी के बाद अब एनआईटी के लिए भी 75% अंक जरूरी नहीं

Facebooktwittermailby feather

मानव संसाधन विकास मंत्रालय ने कोविड-19 महामारी को देखते हुए आईआईटी के बाद अब एनआईटी में और केंद्र से वित्त प्राप्त अन्य तकनीकी संस्थानों में दाखिले के लिये यह घोषणा करते हुए कहा कि 12 वीं कक्षा की बोर्ड परीक्षा में न्यूनतम 75 प्रतिशत अंक की जरूरत नहीं होगी।

केंद्रीय एचआरडी मंत्री रमेश पोखरियाल ‘निशंक’ ने कहा कि, ‘‘ मौजूदा परिस्थितियों के कारण केंद्रीय सीट आवंटन बोर्ड (सीएसएबी) ने एनआईटी और केंद्र द्वारा वित्त प्रदत्त अन्य तकनीकी संस्थानों में दाखिले के लिये योग्यता के मानदंड में छूट देने का निर्णय किया है।’’

उन्होंने कहा, ‘जेईई मेन 2020 में उत्तीर्ण हुए उम्मीदवारों को अब सिर्फ 12 वीं की परीक्षा के उत्तीर्णता प्रमाणपत्र की जरूरत होगी और इसमें प्राप्त हुए अंक मायने नहीं रखेंगे। ’’एनआईटी और केंद्र से वित्त प्रदत्त अन्य तकनीकी संस्थानों में जेईई-मेन उत्तीर्ण करने के अलावा 12 वीं कक्षा की परीक्षा में कम से कम 75 प्रतिशत अंक हासिल करने की भी जरूरत होती है। संयुक्त प्रवेश परीक्षा (जेईई) -मेन, अब एक से छह सितंबर के बीच आयोजित की जाएगी। यह दो बार स्थगित की जा चुकी है।