onwin giris
Home उत्तराखंड

देहरादून में जहां दो जगहों पर बादल फटने से जनजीवन अस्त-व्यस्त हो गया वहीं राजधानी में बारिश ने तोड़ा 70 साल पुराना रिकार्ड

राज्य की राजधानी देहरादून मे बादल फटने की से शहर के कई इलाकों में जनजीवन अस्त-व्यस्त हो गया। मंगलवार को देर रात से शुरू हुई जबरदस्त बारिश ने देहरादून का जनजीवन अस्त-व्यस्त करके रख दिया। पूरे क्षेत्र में मंगलवार से लगातार बारिश हो रही है। आंकड़ों के मुताबिक बारिश ने राजधानी देहरादून में पिछले 70 साल का रिकॉर्ड ध्वस्त कर दिया है। लगातार हो रही झमाझम बारिश से एक दर्जन इलाकों में जलभराव हो गया। दिलाराम चौक, सर्वे चौक, घंटाघर, महाराजा अग्रसेन चौक, कारगी चौक समेत कई चौराहों पर जलभराव से लोगों को जबरदस्त परेशानीयो का सामना करना पड़ा है।

लगातार हो रही मूसलाधार बारिश के चलते नाले भी उफान पर आ गये। गलजवाड़ी, डकरा गढ़ी, घंघोरा कैंट, मयूर विहार कंडोली, सलावाला, गोविंदगढ़, बसंत विहार, इंदिरानगर, जीएमएस रोड, नेहरू कॉलोनी, धर्मपुर, राजेंद्र नगर, शिक्षक कॉलोनी, सरस्वती विहार में पानी भर जाने के कारण लोगों को काफी मुश्किलों का सामना करना पड़ा। केवल बिहार, सुमननगर, नीलकंठ विहार, पंडितबाड़ी, गांधी रोड पर आईएसबीटी, किशननगर, राजेंद्रनगर, त्यागी रोड, पटेलनगर, डालनवाला समेत कई इलाकों में जलभराव हो गया। और यहांआसपास के घरों में पानी घुस गया। इतने जबरदस्त जलभराव को देखकर यहां रहने वाले लोग दहशत में है। लोग पूरे दिन घरों में घुसे पानी को निकालने में लगे रहे। जब शाम को पांच बजे के बाद बारिश बंद हुई तो लोगों ने राहत भरी सांस ली।

टपकेश्वर मंदिर में बहने वाली तमसा नदी भी उफान है। शहर में मुसीबत का सबब बन गई स्मार्ट सिटी परियोजना। वही जगह जगह सड़कों की खुदाई के कारण जल निकासी नहीं होने से हालत और भी बद्तर हो गये। यह स्थिति तब है जब सरकार सरकार और स्मार्ट सिटी के सीईओ ने सभी एजेंसियों को मानसून से पहले निर्माण कार्य पूरा करने के निर्देश दिये थे।

उधर गोविंदगढ़ के लोग नाले के ओवरफ्लो होने के चलते दहशत में रहे गनीमत रही कि नाले का पानी कॉलोनियों में नहीं पहुंचा। लोगों का कहना है कि नगर निगम और सिंचाई विभाग द्वारा किए जा रहे निर्माण कार्य पूरे नहीं होने से बारिश में भारी तबाही मच सकती है| मूसलाधार बारिश के कारण रिस्पना और बिंदल जैसी नदियों के किनारे दो दर्जन से अधिक बस्तियों के लोग भी फंस गए। दोनों नदियों का जलस्तर बढ़ने से बस्तियों के लोगों में दहशत है। लोग इस बात को लेकर चिंतित हैं कि कहीं नदियां ओवरफ्लो न हो जाएं। लेकिन गनीमत रही कि नदियों में जलस्तर काफी ऊपर आ गया था परन्तु इतना ऊंचा नहीं कि इससे परेशानी होती।

Similar Posts

© 2015 News Way· All Rights Reserved.