पहाड़ की सुरक्षित वादियों में भी मंडराएगा कोरोना संकट के बादल, खतरा बनेंगे ‘वो’ गुमनाम जमाती

Facebooktwittermailby feather

कोरोना वायरस के आंतक से लड़ाई के बीच निजामुद्दीन मरकज का मामला अचानक गरमा गया है। बताया जा रहा है कि जो लोग निजामुदीन मकरज में तबलीगी जमात में शामिल होने गए थे उसमें पौड़ी, टिहरी, उत्तराकाशी चमोली देहरादून के भी लोग शामिल हैं।
इन लोगो ने पहाड़ वशिओ को खतरे में डाल दिया है । क्योंकि प्रदेश के जिलों में मुस्लिम समुदाय की अच्छी खासी तादाद है।हालांकि सूबे का खुफिया तंत्र ऐसे लोगों का पता लगाने में जुटा है। लेकिन कितना खतरनाक हो सकता है इसका अदाजा फिलहाल नहीं लगाया जा सकता। यह आने वाले दिनों में संकट की कोई बड़ी लकीर खींचेगा। ऐसा माना जा रहा है। हालांकि प्रशासन का कहना है कि जमातियों का पता लगाकर क्वारंटीन कराया जाना है।

निजामुद्दीन मरकज में तब्लीगी जमात में शामिल लोगों के कोरोना पॉजिटिव होने के बाद देशभर में अफरातफरी का माहौल है। उनका पता लगाया जा रहा है कि इस जमात में कौन कौन लोग गए थे, ताकि उन्हें अलग से रखा जा सके। सक्रमण के खतरे से बचा जा सके। इसके लिए सभी को जागरूक होना होगा।
बताया जा रहा है कि प्रदेश से करीब 26 लोगों ने जमात में शिरकत की। तो वहीं खुफिया तंत्र चैंकाने वाला आंकड़ा यह भी है कि 250 से अधिक लोग बाहर गए हैं, इनमें पौड़ी के भी हैं तो देहरादून, हरिद्वार, टिहरी, उत्तरकाशी के भी हैं। तो सावधान रहें, सजग रहें।