दिल्ली पुलिस की पहली महिला सिपाही बन किया प्लाज्मा डोनट

Facebooktwittermailby feather

दिल्ली के रोहिणी नॉर्थ थाने में तैनात सिपाही और कोरोना वॉरियर (Corona Warrior) हेमा प्लाज्मा देने वाली पहली महिला सिपाही बन गयी है। हेमा 2011 बैच की सिपाही है, हेमा की ड्यूटी थाने में पब्लिक फेसिलिटेशन डेस्क पर रहती है, लेकिन स्टाफ की कमी के वक्त उन्होंने कंटेनमेंट जोन में भी ड्यूटी की। जिसके चलते हेमा को 2 जून को गले मे दर्द और थकान महसूस हुई, फिर हेमा ने आंबेडकर हॉस्पिटल में अपना कोरोना टेस्ट कराया। 6 जून को हेमा की कोरोना रिपोर्ट आई जो कि पोसिटिव पायी गयी। फिर हेमा ने अपने परिवार से दूर रोहिणी सेक्टर-6 में ही एक गेस्ट हाउस में 25 जून तक सेल्फ आइसोलेशन में ही रहने का फैसला किया। 25 जून को उनकी कोविड रिपोर्ट नेगेटिव आ जाने पर वह घर आ जाने के बाद हेमा ने 29 जून से ड्यूटी जॉइन कर ली। इसके बाद उन्होंने प्लाज्मा डोनेट करने के लिए सोचा लेकिन उन्हें इसके लिए कम से कम 14 दिन का इंतजार करना जरूरी है। फिर 14 दिन बीत जाने के बाद महकमे से प्लाज्मा डोनेट करने के लिए कॉल आई तो उन्होंने इसे अपना सौभाग्य समझते हुए प्लाज्मा डोनेट करने का निर्णय लिया।
एम्स में केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री डॉ. हर्षवर्धन और दिल्ली पुलिस कमिश्नर एसएन श्रीवास्तव भी आये थे इस बात की जानकारी हेमा को नही थी। यह बातें तो रविवार को एम्स में प्लाज्मा डोनेट करते वक्त ही पता लगी। हेमा को खुद पर गर्व है कि उनके प्लाज्मा डोनेट करने से किसी की जिंदगी तो बचेगी। हेमा ने दिल्ली पुलिस के अन्य साथियों से भी अपील की है कि प्लाज्मा डोनेट करने से ना तो कोई कमजोरी आती है और ना ही किसी तरह की परेशानी महसूस होती है। इसके उलट अच्छा लगता है कि हम किसी के काम आ रहे हैं।