उत्तराखंड

जाने-माने न्यूज चैनल के एडिटर इन चीफ गिरफ्तार, उत्तराखंड में करता था स्टिंग, ब्लैकमेलिंग और जमीन कब्जाने का कारोबार

उत्तराखंड और उत्तरप्रदेश के जाने-माने न्यूज चैनल के एडिटर इन चीफ उमेश कुमार शर्मा को पुलिस ने गिरफ्तार किया है. उमेश शर्मा पर दो बड़े आईएएस का स्टिंग बनाकर ब्लैकमेल करने का आरोप है. मामले में राजपुर पुलिस ने पांच लोगों के खिलाफ मुकदमा दर्ज किया है.

पुलिस के अनुसार आरोपी एडिटर इन चीफ के घर से 39 लाख 73 हज़ार और भारी संख्या में विदेशी करेंसी भी बरामद हुई है. उमेश कुमार के खिलाफ राजपुर थाने में मुकदमा लिखा गया है. इसके अलावा मामले में चार और आरोपियों राहुल भाटिया, प्रवीण साहनी, सौरभ साहनी और मृत्युंजय मिश्रा के खिलाफ धारा 386, 388 और 120B के तहत मुकदमा दर्ज हुआ है. शिकायतकर्ता आयुष गौड़ ने देहरादून एसएसपी को लिखित शिकायत दी थी कि आरोपियों द्वार उन्हें परेशान कर अधिकारियों का स्टिंग कराया जा रहा है. स्टिंग के बाद आरोपी अधिकारियों को ब्लैकमेल करते थे.

शनिवार को पुलिस ने छापा मारकर उनके एनसीआर स्थित घर से गिरफ्तार किया है. वहीं, उनके घर की तलाशी के दौरान 39 लाख 73 हजार रुपए, 16,279 अमेरिकी डॉलर, 11030 भाट थाईलैंड की मुद्रा बरामद हुई है. साथ ही मोबाइल, हार्ड ड्राइव, पैन कार्ड, लैपटॉप को पुलिस ने कब्जे में ले लिया है. आरोपी उमेश शर्मा को कल देहरादून कोर्ट में पेश किया जाएगा.

शिकायतकर्ता इन्वेस्टिगेशन एडिटर आयुष गौड़ ने शिकायती पत्र में बताया गया है कि उमेश कुमार शर्मा द्वारा कहा गया था कि मृत्युंजय मिश्रा दिल्ली में अपर सचिव ओमप्रकाश से मुलाकात करवाएंगे उस दौरान कुछ पैसे दे कर ओम प्रकाश का स्टिंग बनाना. बता दें कि ओम प्रकाश इस समय उत्तराखंड शासन में अपर मुख्य सचिव पद पर हैं. बता दें कि न्यूज चैनल के ये CEO पूर्व सीएम हरीश रावत का भी इसी तरह का स्टिंग कर काफी चर्चाओं में रहे हैं.

जानकारी के अनुसार आरोपी न्यूज चैनल के CEO ने उत्तराखंड शासन के कई और आईएएस अधिकारियों के भी स्टिंग ऑपरेशन किये हैं. जिसकी एवज में वसूली की बात सामने आ रही है. शुरुआत में एक अखबार के स्ट्रिंगर, उसके बाद एक मोबाइल न्यूज एजेंसी के संचालक के तौर पर मीडिया में करियर शुरू करने वाले उमेश कुमार ने एनडी तिवारी के उत्तराखंड के सीएम रहने के दौरान उनके करीबियों से नाता जोड़ा और फिर जमीनों के धंधे में लग गया.

इसके बाद उसने स्टिंग, ब्लैकमेलिंग, जमीन कब्जाने का कारोबार शुरू किया. इम काम में नौकरशाही, राजनेताओं और मीडिया का खूब इस्तेमाल करता रहा और समय-समय पर इन सबको उत्तराखंड से दिल्ली का रुख करने के बाद वह लगातार अपने संपर्क बढ़ाता गया.

रजनीगंधा वालों के सौजन्य से समाचार प्लस चैनल खोलने में कामयाब हुआ. इधर, उत्तराखंड के तत्कालीन सीएम हरीश रावत का स्टिंग कर डाला. इस बीच उसने जान के खतरे का हवाला देकर सीआईएसएफ समेत कई राज्यों की पुलिस का सेक्युरिटी कवर लेने में कामयाब हुआ. इतना ही नहीं उमेश कुमार के चैनल समाचार प्लस के वॉश रूम में एक महिला कर्मी का एमएमएस बनाए जाने का पहले भी एक मामला हो चुका है जिसे चैनल प्रबंधन ने अपने रसूख के बल पर दबवा दिया था.

न्यूज सोर्स- भड़ास फॉर जर्नलिस्ट, इनाडू इंडिया उत्तराखंड.

Similar Posts

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

© 2015 News Way· All Rights Reserved.