उत्तराखंड

उपचुनावों में भाजपा को लगा झटका

11 विधानसभा और चार लोकसभा सीटों पर हुए हालिया उपचुनावों में भाजपा को झटका लगा है. गुरुवार को आए नतीजों में भाजपा इनमें से केवल दो सीटें ही जीत सकी. इनमें एक सीट लोकसभा की है और एक विधानसभा की. पार्टी सबसे अहम मानी जा रही उत्तर प्रदेश की कैराना सीट भी गंवा बैठी. यहां पर संयुक्त विपक्ष की उम्मीदवार तबस्सुम हसन ने भाजपा उम्मीदवार मृगांका सिंह को 55 हजार से भी ज्यादा वोटों के अंतर से हरा दिया. यह सीट भाजपा सांसद हुकुम सिंह के निधन से खाली हुई थी.

उत्तर प्रदेश की ही नूरपुर विधानसभा सीट पर कांग्रेस, बसपा और राष्ट्रीय लोकदल समर्थित समाजवादी पार्टी के उम्मीदवार नईम-उल-हसन विजयी रहे. गोरखपुर और फूलपुर के संसदीय उपचुनावों में हारने के बाद ये दोनों सीटें भाजपा और मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के लिए प्रतिष्ठा का प्रश्न बन गई थीं. इन चुनाव नतीजों को 2019 से पहले आपस में एकता कायम करने की कोशिशें कर रहे विपक्ष का उत्साह बढ़ाने वाला भी माना जा रहा है. चुनाव परिणाम पर कैराना में भाजपा की उम्मीदवार मृगांका सिंह ने कहा कि विपक्षी दलों का गठबंधन काफी मजबूत रहा, भाजपा को भविष्य के लिए सही से तैयारी करनी होगी. हालांकि, पार्टी अध्यक्ष अमित शाह उपचुनावों को भाजपा की लोकप्रियता या ताकत का पैमाना नहीं मानते हैं.

इस बीच महाराष्ट्र की पालघर लोकसभा सीट पर भाजपा के राजेंद्र गोवित ने जीत दर्ज की है. लेकिन दूसरे नंबर पर रही शिवसेना ने वोटों की गिनती दोबारा कराने की मांग की है. वहीं, भंडारा गोंदिया सीट पर कांग्रेस समर्थित एनसीपी उम्मीदवार ने जीत दर्ज की है. भाजपा ने उत्तराखंड की थराली सीट पर जीतने में सफल रही है. उधर, बिहार में भाजपा की सहयोगी जदयू को जोकिहाट विधानसभा सीट पर शर्मनाक हार का सामना करना पड़ा है. यहां राजद उम्मीदवार ने 40 हजार मतों से जीत दर्ज की है. यह उपचुनाव कांग्रेस के लिए अच्छी खबर लेकर आया है, वह पंजाब, कर्नाटक और मेघालय में जीतने में सफल रही है.

Similar Posts

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

© 2015 News Way· All Rights Reserved.