उत्तराखंड से चार ट्रेनों में 3456 प्रवासी श्रमिक जाएंगे बिहार, पुलिस के सहयोग से सूची तैयार

Facebooktwittermailby feather

चार ट्रेनों से बिहार जाने वाले यात्रियों की सूची प्रशासन से पुलिस की मदद से तैयार कर ली है। एक ट्रेन में 864 लोग सवार होंगे। चार ट्रेनों से 3456 लोगों को यहां रवाना किया जाएगा। दून से चलकर ट्रेन के बिहार राज्य में तय स्टेशनों पर गेट खोले जाएंगे।

देहरादून में फंसे बिहार के लोगों को उनके जिलों तक पहुंचाने के लिए चार स्पेशल ट्रेन बिहार के लिए चलाई जा रही हैं। दो ट्रेन मंगलवार और दो ट्रेन बुधवार को दून से रवाना होंगी। दोनों दिन एक ट्रेन दोपहर एक बजे और दूसरी शाम सात बजे रवाना होगी। अपर जिलाधिकारी प्रशासन रामजी शरण शर्मा ने बताया कि ट्रेन से जाने वाले बिहार के लोगों की सूची पुलिस की मदद से तैयार कर ली गई है। उन्होंने बताया कि प्रत्येक ट्रेन में 864 लोग भेजे जांएगे।

कलक्ट्रेट पहुंचे कई लोग
ट्रेन से जाने के लिए कलक्ट्रेट में कोई पंजीकरण नहीं चल रहा है। यह काम सभी क्षेत्र में थाना पुलिस ने किया है। इसके बावजूद सोमवार सुबह से शाम तक बड़ी संख्या में लोग बिहार जाने के पंजीकरण के लिए कलक्ट्रेट पहुंचे। इन्हें कलक्ट्रेट गेट से वापस लौटा दिया गया। लोगों को समझाया गया कि पूर्व में पंजीकरण के हिसाब से लोग ट्रेन से रवाना होंगे।

शालीमार एक्सप्रेस पहुंची दून, स्टेशन के बाहर लग गए निशान
मंगलवार को बिहार के लोगों को ट्रेन से भेजा जाना है। मणिपुर के लोगों को लेने के लिए शालीमार एक्सप्रेस बीते रविवार की रात ही देहरादून पहुंच गई थी। सुबह ट्रेन की धुलाई के साथ सेनेटाइजेशन का काम हो रहा था। वहीं रेलवे स्टेशन में मजदूरों को भेजने के लिए जीआरपी थाना पुलिस और आरपीएफ व्यवस्था करने में लगी हुई थी। रेलवे स्टेशन के अंदर तक जाने के लिए मजदूरों व अन्य लोगों के लिए एक-एक मीटर की दूरी पर जगह तय कर निशान लगाए गए। परिसर में एक बार में करीब 200 मजदूर नियत दूरी पर खड़े हो सकते हैं। वहां मौजूद पुलिसकर्मियों ने बताया कि स्पोर्ट्स कॉलेज से मणिपुर और बन्नू स्कूल ग्राउंड से बिहार जाने वाले लोगों को बसें लेकर आएंगी। जिनको सोशल डिस्टेंस के तहत खड़ा कर ट्रेन तक भेजा जाएगा।