उत्तराखंड

उत्तराखंड: जिस भाई को उसकी जान की डर से बचाती रही, उसी के लिए फांसी की सजा मांग रही युवती, जानिए वजह?

सौतेले तो सौतेले, सगे भाई को भी युवती पर तरस नहीं आया। खुद को बचाने के लिए वह बार-बार अपने भाई को मां के दूध की दुहाई भी देती थी, मगर वह सालों तक बहन के साथ यह गंदा काम करता रहा। कभी अगर यह बात मां को बतानी भी चाही तो वह किसी न किसी तरह हाथ जोड़कर खुद को बचाता रहा। इसके बाद युवती को लगा कि अगर उसने मां को यह बात बताई तो कहीं भाई कुछ गलत कदम न उठा ले। लिहाजा, उसने मां को कभी सगे भाई की करतूत नहीं बताई। मामला देहरादून के प्रेमनगर का है, युवती ने थाने में रो-रोकर अपनों की हैवानियत पुलिस को बताई। उसने पुलिस को बताया कि सौतेले बाप और सौतेले भाई ने उसके साथ जो किया, उसका उसे इतना दुख नहीं है, जितना उसे अपने सगे भाई की करतूत पर गुस्सा है। कई साल पहले जब उसने अपने भाई को दोनों की शिकायत की थी तो उसने उसे चुप करा दिया। कहा कि अगर वह किसी को बात बताएगी तो लोग उसे ही भला बुरा कहेेंगे। ऐसे में परिवार की बदनामी होगी। भाई की बात सुनकर युवती चुप हो गई। इसी बीच एक दिन सगे भाई ने भी उसे घर में अकेला देखकर उसके साथ गलत हरकतें शुरू कर दीं। इस पर युवती ने विरोध किया तो वह पैरों पर गिरकर माफी मांगने लगा। कहा कि अगर वह मां से या किसी और से यह बात बताएगी तो वे उसे घर से निकाल देंगे।
सोमवार को फिर सगे भाई ने दुष्कर्म किया ऐसे में युवती चुप हो गई। एक बार हिम्मत कर उसने मां को उसकी यह हरकत बतानी भी चाही, लेकिन डर लगा कि कहीं भाई कोई गलत कदम न उठा ले। इसलिए वह फिर चुप रही। बीते सोमवार को जब उसका सगा भाई उससे दुष्कर्म करने लगा तो उसने कई बार उसे मां के दूध की दुहाई भी दी, लेकिन उसे तनिक भी तरस नहीं आया। थाने में युवती बार-बार यही कहती रही कि इन दरिंदों को फांसी से कम सजा नहीं होनी चाहिए।

Similar Posts

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

© 2015 News Way· All Rights Reserved.