चीन के साथ टकराव के बीच कुछ दिनों में मिल रही है राफेल की पहली खेफ

Facebooktwittermailby feather

इस वक्त भारत और चीन के बीच तनाव अपने चरम स्थल पर चल रहा है और इन सबके बीच एक बड़ी खुशखबरी भारतीय वायुसेना को मिल रही है इस टकराव की इस स्थिति में भारतीय वायुसेना की ताकत में बड़ा इजाफा होने जा रहा है। फ्रांस से मिलने वाले 36 राफेल लड़ाकू विमानों की पहले खेप अब 27 जुलाई को ही भारत पहुंच रही है. पहली खेप में भारतीय वायुसेना को कम से कम छह (06) फाइटर जेट मिल तय हैं। हालांकि, वायुसेना की तरफ से अभी तक राफेल के जंगी बेड़े में शामिल होने वाली औपचारिक समारोह (‘सेरेमेनी’) की तारीख की घोषणा नहीं की गई है।

यह खबर इस मायने में बेहद महत्वपूर्ण है क्योंकि लद्दाख सीमा पर भारत और चीन के बीच जबरदस्त तनाव चल रहा है। दोनों देशों की सेनाएं एक दूसरे के सामने हैं और भारत ने साफ कर दिया है कि वह चीन की सीनाजोरी कतई बर्दाश्त नहीं करेगा। इस स्थिति में अगर राफेल विमान भारत को मिलते हैं तो इससे वायुसेना की ताकत में जबरदस्त इजाफा होगा। इससे पहले, जून की शुरुआत में केंद्रीय रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने अपनी फ्रांसीसी समकक्ष फ्लोरेंस पारले से टेलीफोन पर वार्ता की थी। इस दौरान फ्रांस की रक्षा मंत्री ने आश्वासन दिया था कि कोरोना वायरस महामारी के बावजूद राफेल विमान तय समय के अनुसार भारत पहुंचाए जाएंगे। रक्षा मंत्रालय के अधिकारियों ने यह जानकारी दी थी।